लखनऊ / 'ठोक देंगे' और 'जुबान खींच लेंगे' नहीं बोल सकती भाजपा, सीएए और विकास पर हम बहस को तैयार: अखिलेश

समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र को श्रद्धांजलि देते पूर्व सीएम अखिलेश। समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र को श्रद्धांजलि देते पूर्व सीएम अखिलेश।
पत्रकारों से बातचीत करते पूर्व सीएम और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पत्रकारों से बातचीत करते पूर्व सीएम और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव
X
समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र को श्रद्धांजलि देते पूर्व सीएम अखिलेश।समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्र को श्रद्धांजलि देते पूर्व सीएम अखिलेश।
पत्रकारों से बातचीत करते पूर्व सीएम और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादवपत्रकारों से बातचीत करते पूर्व सीएम और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव

  • बोले- भाजपा के लोग हमको जगह और मंच बता दें, हम खुद ही बहस के लिए पहुंच जाएंगे
  • सपा नेता जनेश्वर मिश्र की 10वीं पुण्यतिथि उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद बोल रहे थे अखिलेश
  • मायावती ने भी कहा- भाजपा जहां चाहे बसपा वहां सीएए पर बहस करने के लिए तैयार है

दैनिक भास्कर

Jan 22, 2020, 09:03 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून और विकास को लेकर भाजपा के लोगों से बहस के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल हो रहा है वो राजनीति करने वालों की भाषा नहीं है। यहां "ठोक देंगे" और "ज़ुबान खींच" लेंगे जैसी भाषा का इस्तेमाल भाजपा कर रही है। बहुमत से भाजपा आम लोगों की आवाज नहीं दबा सकती है।

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता रहे जनेश्वर मिश्र की 10वीं पुण्यतिथि के मौके पर अखिलेश उन्हें श्रद्धांजलि देने जनेश्वर मिश्र पार्क पहुंचे थे। यहां उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा पर जमकर हमला बोला। अखिलेश ने कहा- भाजपा जब चाहे तब वह विकास के मुद्दे पर उनसे बहस करने को तैयार हैं। भाजपा हमको जगह और मंच के बारे में बता दे। सपा ही सिर्फ सीएए का विरोध नहीं कर रही है, बल्कि महिलाओं ने भी इसका विरोध किया है। धर्म के नाम पर नागरिकों के साथ भेदभाव कब तक भाजपा वाले करेंगे। वोट के लिए भारत की आत्मा को क्यों खत्म कर रही है भाजपा?

मायावती का ट्वीट: सीएए पर बहस के लिए तैयार

गृह मंत्री अमित शाह ने लखनऊ में रैली करके विपक्ष को सीएए, एनआरसी और एनआरपी पर बहस करने की चुनौती दी थी। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बाद बसपा अध्यक्ष मायावती ने भी उनकी चुनौती स्वीकार की है। मायावती ने ट्वीट करके कहा- बसपा किसी भी मंच पर व कहीं भी उनके साथ बहस करने को तैयार है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना