विज्ञापन

#MeToo को मीटू ही क्यों कहते हैं, थ्री, फोर, फाइव क्यों नहीं कहते? दुखी होने पर कुछ गलत करने का मन होता है? ऐसे सवालों के जवाब देकर इस लेडी ने क्रैक किया PCS

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 10:22 PM IST

उत्तर प्रदेश न्यूज : ये सवाल करते हुए हंस पड़ा था पैनल, फिर कहा- जरा मीटू लिखकर दिखाइए

Lucknow UP News In Hindi: Pooja Pathak Selected as DPO through UP PCS Exam Interview Question About MeToo Campaign
  • comment

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। मधूपुर निवासी 28 वर्षीय पूजा पाठक ने पीसीएस-2016 में कामयाबी हासिल की है। डीपीओ पद पर उनका सिलेक्शन हुआ है। फिलहाल वे राजस्व विभाग में समीक्षा अधिकारी के पद पर कार्यरत हैं। जॉब के साथ ही उन्होंने पीसीएस की तैयारी के लिए सेल्फ स्टडी का सहारा लिया। उनके पिता देवीप्रसाद पाठक यूपी पुलिस से कांस्टेबल के पद से रिटायर हैं। जबकि मां रत्ना पाठक हाउसवाइफ हैं। इसी साल 24 जनवरी को उनका इंटरव्यू हुआ था। करीब 25 से 30 मिनट चले इंटरव्यू में 5 लोगों के पैनल ने उनसे सवाल किए थे। पूजा ने dainikbhaskar.com से उनसे इंटरव्यू में हुए कुछ सवाल और उनके जवाब शेयर किए।

सवाल-: आपकी क्वालिफिकेशन क्या है? अभी क्या कर रही हैं?
जवाब-: मैंने बीएससी, बीएड और एमए किया है। मैं अभी लखनऊ में राजस्व विभाग में समीक्षा अधिकारी के पद पर कार्यरत हूं।

सवाल-: आप क्या काम करती हैं वहां? आप यहां क्यों आना चाहती हैं? क्यों पीसीएस बनना चाहती हैं?
जवाब-: अभी समीक्षा अधिकारी के तौर पर काम करते हुए वहां डिसीजन मेकिंग का काम हमारा नहीं है। हम एग्जीक्यूटिव अथॉरिटी नहीं हैं। यहां हमें थोड़ी पावर उस हिसाब से मिलेगी, हमारे पास अथॉरिटी रहेगी तो पॉलिसी मेकिंग में हम अपना रोल दे सकते हैं।

सवाल-: पोस्ट प्रिफरेंस क्या डाली है?
जवाब-: मेरा पहला प्रिफरेंस डिप्टी कलेक्टर था, दूसरा असिस्टेंट कमिश्नर कामर्शियल टैक्स, तीसरा मुख्य कोषाधिकारी, चौथा समाज कल्याण अधिकारी, पांचवा डीपीओ, छठवां लेखा अधिकारी नगर विकास डाला था।

सवाल-: आपके ऑप्शनल सब्जेक्ट क्या थे?
जवाब-: सोशल वर्क एंड डिफेंस स्टडीज मेरे सब्जेक्ट थे।

सवाल-: टोटल वॉर क्या होता है? आपने सुना है इस विषय में?
जवाब-: यूरोप के विचारक मैक्येवली ने ये कॉन्सेप्ट दिया था। उन्होंने समग्र युद्ध की चर्चा की थी। बाद में नेपोलियन बोनापार्ट ने इस अवधारणा को फ्रांसीसी क्रांति के दौरान अपनाया। इसमें युद्ध के समय कोई भी कंट्री अपने सारे संसाधनों का उपयोग करती है तो उसे टोटल वॉर कहा जाता है। इसमें पब्लिक भी पार्टीसिपेट करती है और देश पूरे संसाधन झोंक दिए जाते हैं। ताकि दुश्मन देश का समूल विनाश हो सके।

सवाल-: मीटू का नाम आपने सुना होगा? (अचानक हंसते हुए) क्या है ये?
जवाब-: जी सर, सुना है। ये महिलाओं का एक ऑनलाइन कैंपेन है। महिलाओं के साथ होने वाले यौन उत्पीड़न के खिलाफ ऑनलाइन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शुरू किया गया है।

सवाल-: इसे मीटू ही क्यों कहते हैं, थ्री, फोर, फाइव क्यों नहीं कहते? अच्छा पहले, जरा लिखकर दिखाइए?
जवाब-: सर, ये मीटू में टू का मतलब टी डबल ओ है। इसका अर्थ है मैं भी। इसमें लोग जुड़ते जाते हैं कि हां उनके साथ भी ऐसी ही घटना हुई है।

सवाल-: आपको गुस्सा आता है? दुखी होती हैं आप?
जवाब-: जी मैडम, आता है। हां, दुखी होती हूं।

सवाल-: कब दुखी होती हैं, क्या करती हैं? क्या दुखी होने पर कुछ गलत कर लूं ऐसा मन होता है?
जवाब-: नहीं, मैडम, मुझे एक्चुली गाना गाना बहुत अच्छा लगता है। ऐसे में जब भी मेरा मूड ऑफ होता है तो गाना गुनगुना लेती हूं या कोई गाना सुन लेती हूं।

पुलिस विभाग में सेवा दे रहे पति और भाई

- पूजा बताती हैं कि उनकी स्कूली शिक्षा आजमगढ़ में हुई है। जेएस सिटी मांटेसरी स्कूल से उन्होंने 12वीं तक पढ़ाई की है। डीएवी पीजी कॉलेज से बीएससी और बीएचयू से बीएड किया है।
- उनके पिता रिटायरमेंट के बाद अपनी जमीन पर खेती करते हैं। बड़े भाई वैभव पाठक लखनऊ एसपी कार्यालय में कांस्टेबल हैं। सबसे बड़ी बहन शशिप्रभा की शादी हो चुकी है। छोटा भाई एश्वर्य और बहन योगिता प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं।
- करीब छह महीने पहले ही पूजा की शादी हुई है। उनके पति उत्तम मिश्रा भी यूपी पुलिस में सब इंस्पेक्टर के तौर पर बनारस में पोस्टेड हैं।

X
Lucknow UP News In Hindi: Pooja Pathak Selected as DPO through UP PCS Exam Interview Question About MeToo Campaign
COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन