Home | Uttar Pradesh | Lucknow | News | president ramnath kovind inaugurate one district one product summit

यूपी से चुनाव लड़ने वाले को मिलता है प्रधानमंत्री बनने का मौका, अटलजी कहते थे उत्तर प्रदेश है उत्तम प्रदेश: ओडीओपी समिट में राष्ट्रपति

इस समिट का आयोजन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के द्वारा किया गया है

DainikBhaskar.com| Last Modified - Aug 10, 2018, 01:22 PM IST

president ramnath kovind inaugurate one district one product summit
यूपी से चुनाव लड़ने वाले को मिलता है प्रधानमंत्री बनने का मौका, अटलजी कहते थे उत्तर प्रदेश है उत्तम प्रदेश: ओडीओपी समिट में राष्ट्रपति

लखनऊ. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज राजधानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 'एक जनपद-एक उत्पाद' (ओडीओपी) समिट का  उद्घाटन किया। इससे पहले उन्होंने समिट में लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया।  कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा- प्रदर्शनी मे बुंदेलखंड के बांदा की केन नदी के पत्थर की छवि देखकर मुझे अटल बिहारी वाजपेयी की याद आ गई। वो ये कहते थे उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश है, जो इसकी खोज कर लेगा उसे पता चलेगा की उत्तर प्रदेश कितनी संभावनाओं से भरा है। राष्ट्रपति ने कहा, यूपी की धरती ऐसी है कि जो भी उत्तर प्रदेश से चुनाव लड़ता है उसे प्रधानमंत्री बनने का मौका मिलता है। उत्तर प्रदेश प्रतिभा वाला प्रदेश है। इसलिए मैं योगी सरकार के प्रयास की सराहना करता हूं।

 

 

यूपी के बिना देश की कल्पना संभव नहीं: राष्ट्रपति ने कहा- विभिन्न क्षेत्रों में उनके असाधारण योगदान के लिए, देश के सर्वोच्च अलंकरण 'भारत-रत्न' से सम्मानित, कुल 45 विभूतियों में से 11 भारत-रत्नों की जन्म-स्थली या कर्म-स्थली उत्तर प्रदेश में है। यह उत्तर प्रदेश के निवासियों के लिए गर्व की बात है। जनहित के लगातार काम करने के लिए मैं योगी जी की सरकार को बधाई देता हूं। प्रदर्शनी के दौरान मैं देखने 20 साल के अनुभवी उद्यमियों से बात की। उत्तर प्रदेश में ताजमहल है, कई नदियां हैं।  सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। ऐसी कई चीजें हैं जो उत्तर प्रदेश में हैं जो प्रदेश को सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना सकता है। उत्तर प्रदेश के बिना देश की कल्पना नहीं हो सकती है। देश के कुल हस्त-शिल्प निर्यात में उत्तर प्रदेश का योगदान 44 प्रतिशत है। उत्तर प्रदेश के विकास में एमएसएमई उद्यमों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

 

रोजगार के अवसर पैदा होंगे: ओडीओपी योजना छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों तक एमएसएमई उद्यमों के लिए सहायक परिस्थितियां उत्पन्न करेगी। भारत में एमएसएमई उद्यमों को अर्थ-व्यवस्था का मेरुदंड कहा जाता है। ये उद्यम समावेशी विकास के इंजन हैं। कृषि क्षेत्र के बाद सबसे अधिक लोग इन्ही उद्यमों में रोजगार पाते हैं। देश के सर्वाधिक एमएसएमई उद्यम उत्तर प्रदेश में हैं। मुझे बताया गया है कि ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना द्वारा पांच वर्षों  में 25,000 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता के जरिए 25 लाख लोगों को रोजगार दिलाने का लक्ष्य है। मुझे आशा है कि इस योजना से युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

 


हमें विकसित देशों से सीखना होगा: राष्ट्रपति ने कहा- हमें कुछ विकसित देशों से यह सीखना है कि कैसे, हाथ से बनी हुई चीजों को, आधुनिक ब्रांडिंग और मार्केटिंग के जरिये, विदेशी मुद्रा कमाने, रोजगार बढ़ाने और देश की छवि को निखारने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है। 'ओडीओपी' योजना से स्थानीय कौशल और कलाओं का संवर्धन होगा, तथा उत्पादों की पहुंच बढ़ेगी। इससे उत्तर प्रदेश के हर जनपद में शिल्पकारों की आर्थिक प्रगति होगी। मुझे आशा है कि इससे राज्य के समग्र और संतुलित विकास को बल मिलेगा। 

 

 

हमें पहले प्रदेश की छवि बदलना था: कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'एक जनपद एक उत्पाद' समिट पर मैं राष्ट्रपति और राज्यपालजी का स्वागत करता हूं। उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा प्रदेश है यहां की 22 करोड़ जनता को स्वालंबी बनाना हमारे लिए चुनौती थी। जब हमने यूपी में काम शुरू किया तब प्रदेश की स्थित कैसी थी यह किसी से छुपी नहीं है। प्रकृति का उत्तर प्रदेश पर असीम आशीर्वाद है। हमें सबसे पहले प्रदेश की छवि को बदलना था जिस कारण हमने हर क्षेत्र में काम करना शुरू किया। हमने उत्तर प्रदेश की जनता से वादा किया था कि उत्तर प्रदेश के परंपरागत उद्योग को आगे बढ़ाएंगे उसके लिए हमने काम किया और इसे शुरू करने के लिए हमने प्रदेश के स्थापना दिवस के दिन को चुना। उत्तर प्रदेश में रोजगार बढ़ाने के लिए कृषि के बाद सबसे ज्यादा स्कोप सूक्ष्म उद्योगों में है। अब हम विश्वकर्मा श्रम सम्मान पर भी काम शुरू करने वाले हैं। हम जो कहेंगे उसको जमीन पर उतरेंगे। स्टार्ट अप योजना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने ढाई सौ करोड़ का बजट तैयार कर रखा है। कारीगरों को अच्छी टेक्नोलॉजी दे सकें इसके लिए भी काम किया जा रहा है। एक जनपद एक उत्पाद से प्रदेश का पलायन रुकेगा। अब उत्तर प्रदेश देश में अपने आप को एक नई छवि के साथ पेश करेगा।

 

 

लाभार्थियों को वितरित किए गए ऋण: यह समिट दिन दिनों तक चलेगी।  इस समिट का आयोजन सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग के द्वारा किया गया है। इस समिट में अमेजन, क्वालिटी कंट्रोल ऑफ़ इंडिया, एनएसई, बीएससी और जीई हेल्थकेयर के प्रतिनिधियों व राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर भी किए गए। यूपी के 75 जिलों में लघु उद्योग के विकास के लिए 4095 लाभार्थियों को 1006 करोड़ रुपए के ऋण वितरित किए गए हैं।

prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now