--Advertisement--

मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के बाद यूपी के जेलों में बंद कैदियों की नींद उड़ी, खाना-पीना भी छोड़ा

ज्यादातर अपराधियों ने पुलिस अफसरों को लिखकर दिया है कि वे कोर्ट में पेशी पर नहीं जाना चाहते हैं।

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 01:11 PM IST

लखनऊ. उत्तरप्रदेश की जेल में मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद जेलों में शरण ले रहे अपराधी परेशान होने लगे हैं। मौत के डर से उनका खाना-पीना और सोना तक छूट गया है। अब वे अपनी हिफाजत के लिए बेचैन होने लगे हैं। इस घटना के बाद ज्यादातर अपराधियों ने पुलिस अफसरों को लिखकर दिया है कि वे कोर्ट में पेशी पर नहीं जाना चाहते हैं। उनकी सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा कराई जाए। पश्चिमी यूपी के सुंदर भाटी, योगेश भदौड़ा, बदम सिंह बद्दो, अनिल दुजाना, रणनदीप भाटी, सौरभ बहावड़ी, संजीव जीवा, मोनू जाट, उधम सिंह, शारिक, सतीश गिरी, सलमान, सुशील मूंछ अलग-अलग जेलों में बंद हैं। ये सभी राज्य के बड़े अपराधी हैं। लेकिन इनमें सबसे ज्यादा परेशान बांदा जेल में बंद विधायक मुख्तार अंसारी है।

तीन दिन से बैरक से बाहर नहीं निकला मुख्तार अंसारी: बांदा जेल में बंद मुख्तार तीन दिन से बैरक से बाहर नहीं निकला है। जेल सूत्रों का कहना है कि मुख्तार की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। उसकी बैरक में किसी बंदी को जाने की इजाजत भी नहीं है। सीसीटीवी कैमरे के जरिए 24 घंटे बंदियों की हरकतों पर नजर रखी जा रही है। खुद अधिकारी रात-रातभर जाग रहे हैं। मुख्तार अंसारी को चुनौती देने वाले एमएलसी बृजेश सिंह वाराणसी जेल में है। मेरठ के एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा, 'कुछ अपराधियों की तरफ से पेशी पर जाने से इनकार की जानकारी मिली है। पुलिस की तरफ से उनको जेल से अदालत लाने- ले जाने के लिए सुरक्षा के और पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश सभी जिलों को दे दिए गए हैं।'

-बागपत जेल में हुए मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के बाद छोटा राजन के लिए काम करने वाले जफर खान के छोटे भाई मुबारक खान को सुलतानपुर से लखनऊ जेल में शिफ्ट किया गया है। मुख्तार अंसारी को चुनौती देने वाले एमएलसी बृजेश सिंह वाराणसी जेल में है। अतीक अहमद देवरिया जेल में और माफिया बबलू श्रीवास्तव बरेली जेल में हैं। पश्चिम यूपी का गैंगस्टर नरेश भाटी गाजियाबाद जेल में बंद है। ये सभी अपराधी घटना के बाद से डरे हुए हैं।