उप्र / प्रियंका गांधी का सपा-बसपा पर तंज; गृहमंत्रीजी उन्हें बहस की चुनौती दे रहे, जो घरों से बाहर तक नहीं निकले

पूर्व कांग्रेस विधायक अजय पाल सिंह के घर सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी। पूर्व कांग्रेस विधायक अजय पाल सिंह के घर सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।
पूर्व कांग्रेस विधायक के आवास में सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी। पूर्व कांग्रेस विधायक के आवास में सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।
मां सोनिया के साथ प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली पहुंचीं। मां सोनिया के साथ प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली पहुंचीं।
X
पूर्व कांग्रेस विधायक अजय पाल सिंह के घर सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।पूर्व कांग्रेस विधायक अजय पाल सिंह के घर सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।
पूर्व कांग्रेस विधायक के आवास में सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।पूर्व कांग्रेस विधायक के आवास में सोनिया गांधी व प्रियंका गांधी।
मां सोनिया के साथ प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली पहुंचीं।मां सोनिया के साथ प्रियंका गांधी वाड्रा रायबरेली पहुंचीं।

  • सोनिया व प्रियंका दो दिन के दौरे पर रायबरेली पहुंचीं; किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरने की बनेगी रणनीति
  • पूर्व विधायक के घर अरखा में पहुंचकर उनके बेटे के निधन पर शोक जताया, परिजनों को दी सांत्वना
  • रायबरेली में 20 जनवरी से चल रहा है कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण शिविर, इसमें कार्यकर्ताओं से मिलेंगी

दैनिक भास्कर

Jan 22, 2020, 07:03 PM IST

रायबरेली. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा दो दिवसीय दौरे पर बुधवार दोपहर रायबरेली पहुंचीं। उन्होंने शाम में टि्वट कर गृहमंत्री अमित शाह पर हमला करते हुए कहा- वे उप्र में उन्हें चुनौती दे रहे हैं, जो उनके खिलाफ लड़ने के लिए घर से बाहर तक नहीं निकले। गृहमंत्रीजी को जिन्हें चुनौती देनी चाहिए वे दूसरे प्रदेशों की समस्याओं की बाते कर रही हैं। प्रियंका ने एक तीर से सपा-बसपा पर निशाना साधा है। दरअसल, मंगलवार को लखनऊ में गृहमंत्री अमित शाह ने मायावती व अखिलेश यादव को सीएए के मुद्दे पर पांच मिनट की खुली बहस करने की चुनौती थी। हालांकि, इसके बाद मायावती व अखिलेश ने गृहमंत्री को बहस के लिए तैयार रहने का जवाब दिया है। 

अजीत दास्तां है ये कहां शुरू कहां खतम...

प्रियंका गांधी ने अपने टि्वट का शीर्षक 'अजीब दास्ताँ है ये..कहाँ शुरू कहाँ खतम..'  दिया है। उन्होंने लिखा- "गृहमंत्रीजी उप्र में उन्हें चुनौती दे रहे हैं जो उनके खिलाफ लड़ने के लिए घर से बाहर तक नहीं निकले और जिन्हें गृहमंत्रीजी को चुनौती देनी चाहिए वे दूसरे प्रदेशों की समस्याओं की बातें कर रही हैं।'' उप्र की जागरूक जनता सब समझती है।

पूर्व विधायक के परिवार को दी सांत्वना

दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बुधवार को रायबरेली पहुंचीं। फुरसतगंज एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से होते हुए ऊंचाहार के अरखा में पूर्व कांग्रेस विधायक अजय पाल सिंह के घर जाकर सोनिया व प्रियंका ने शोक संवेदनाएं व्यक्त की। 30 दिसंबर को अजय पाल के इकलौते बेटे अर्णवराज ने गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी। करीब आधे घंटे के बाद सोनिया व प्रियंका भुएमऊ गेस्ट हाउस रवाना हो गईं।  

लोकसभा चुनाव बाद सोनिया का ये दूसरा दौरा
भुएमऊ गेस्ट हाउस में सोनिया-प्रियंका गांधी कांग्रेस के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगी। इस बैठक में कांग्रेस नेता एवं राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी और उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय सिंह लल्लू भी शामिल होंगे। 2019 के लोकसभा में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस केवल रायबरेली सीट जीतने में कामयाब हुई थी। इस सीट खुद सोनियां गांधी चुनाव में थीं। चुनाव जीतने के बाद सोनिया रायबरेली आई थीं। उसके बाद यह उनका दूसरा दौरा है। 

चार दिवसीय प्रशिक्षण जारी, 24 को होगा समापन
बीते 20 जनवरी से भुएमऊ गेस्ट हाउस में कांग्रेसियों का चार दिवसीय प्रशिक्षण शिविर चल रहा है। 20 व 21 जनवरी को बुंदेलखंड व पूर्वांचल के पार्टी पदाधिकारियों और 23, 24 जनवरी को पक्षिमी उत्तर प्रदेश के पदाधिकारियों का प्रशिक्षण चलेगा। इस दौरान यूपी में संगठन में जान फूंकने व सरकार के खिलाफ मुखर आंदोलन शुरू करने की रणनीति तैयार होगी। 

किसान मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी
किसानों के मद्दे पर कांग्रेस उत्तर प्रदेश में बड़ा आंदोलन की तैयारी में है। किसानों की समस्या को लेकर गांव-गांव जनजागरण अभियान होगा। इसके बाद यूपी के अलग-अलग हिस्सों में किसानों की रैली होगी, जिसकी अगुवाई खुद प्रियंका गांधी करेंगी। यह पहला आंदोलन होगा, जिसकी अगुवाई खुद प्रियंका करने वाली हैं। एक हफ्ते के भीतर आंदोलन की रणनीति का ऐलान कर दिया जाएगा। 

शाहीन बाग की तर्ज पर धरने पर बैठी महिलाएं
शहर कोतवाली क्षेत्र के तिलिया कोट में शाहीन बाग की तर्ज पर हाथों में तख्तियां लेकर तमाम महिलाएं धरने पर बैठ गई हैं। महिलाओं ने कहा- सीएए और एनआरसी वापस ली जाए। हम लोगों को सीएए, एनआरसी से और एनपीआर से आजादी चाहिए। देश में जो हिंदू मुस्लिम बंटवारे की राजनीति हो रही, हम लोग उससे भी आजादी चाहते हैं। क्योंकि हम लोग यहां मिल जुलकर रहते हैं, 'ईद और होली साथ मनाते हैं।' प्रदर्शनकारी महिलाओं ने ये भी कहा की मांगे नहीं पूरी हुई तो हम लोग यूएनए जाएंगे।
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना