अयोध्या / विहिप के मॉडल पर नहीं, शंखेश्वर और प्रेम मंदिर जैसा भव्य और 1111 फीट ऊंचा राम मंदिर बनाना चाहते हैं संत

डॉ. वेदांती ने कहा कि राम मंदिर में तराशे गए पत्थर और शिलाएं भी लगेंगी, उनकी उपेक्षा नहीं होगी। डॉ. वेदांती ने कहा कि राम मंदिर में तराशे गए पत्थर और शिलाएं भी लगेंगी, उनकी उपेक्षा नहीं होगी।
श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. राम विलास वेदांती। श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. राम विलास वेदांती।
X
डॉ. वेदांती ने कहा कि राम मंदिर में तराशे गए पत्थर और शिलाएं भी लगेंगी, उनकी उपेक्षा नहीं होगी।डॉ. वेदांती ने कहा कि राम मंदिर में तराशे गए पत्थर और शिलाएं भी लगेंगी, उनकी उपेक्षा नहीं होगी।
श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. राम विलास वेदांती।श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. राम विलास वेदांती।

  • डॉ. राम विलास वेदांती का दावा- सभी संत चाहते हैं महंत नृत्य गोपाल दास की अगुवाई में बने मंदिर
  • श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद हैं डॉ. वेदांती

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2019, 08:22 AM IST

अयोध्या. 9 नवंबर को अयोध्या मामले में आए ऐतिहासिक फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को मंदिर के लिए न्यास बनाने का निर्देश दिए थे। न्यास अभी भले ही न बना हो, लेकिन संतों ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का खाका खींचना शुरू कर दिया है। संत चाहते हैं कि रामलला जन्मभूमि मंदिर 1111 फीट ऊंचा बने। वे इसे कच्छ के शंखेश्वर और वृंदावन के प्रेम मंदिर जैसा भव्य बनाना चाहते हैं। श्रीराम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. राम विलास वेदांती ने बताया कि अयोध्या का रामलला मंदिर विश्व का सबसे विशाल मंदिर बनेगा।

विहिप का मॉडल पुराना
डॉ. वेदांती ने बताया कि विहिप ने मंदिर का जो मॉडल बनवाया था, वह 30 साल पहले का है। अब जमाना बदल गया है। दिल्ली में भव्य मंदिर का खाका खींचा जा रहा है। इसलिए कुछ नेताओं ने विभिन्न जगहों पर मंदिरों को देखने के लिए मुझे भेजा था। गुजरात के कच्छ जिले के मांडवी तहसील में शंखेश्वर मंदिर और वृंदावन के प्रेम मंदिर की दिव्यता और भव्यता सबसे अच्छी दिखी। मैंने इसी तरह का मंदिर अयोध्या में भी बनाने का प्रस्ताव दिया है।

ट्रस्ट को लेकर संतों में कोई मतभेद नहीं
वेदांती ने कहा ट्रस्ट को लेकर संतों में कोई आपसी मतभेद नहीं है। सभी चाहते हैं अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण श्रीरामजन्मभूमि न्यास अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास की अगुवाई में हो। नया ट्रस्ट तय करेगा कि मंदिर कैसा और किसे बनाना है। मंदिर में रामजन्मभूमि में तराशे गए पत्थर और शिलाएं लगाई जाएंगी, उनकी उपेक्षा नहीं होगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना