चिन्मयानंद केस / छात्रा को हाईकोर्ट से झटका: जमानत देने से इंकार, वकील की दलील पर राज्य सरकार से मांगा जवाब



स्वामी चिन्मयानंद। स्वामी चिन्मयानंद।
X
स्वामी चिन्मयानंद।स्वामी चिन्मयानंद।

  • छात्रा की ओर से हाईकोर्ट में दायर जमानत याचिका पर मंगलवार को हुई सुनवाई
  • छात्रा के वकील ने कहा- उसके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं, फंसाया गया
  • जस्टिस सिद्धार्थ की एकल पीठ ने राज्य सरकार से मांगा जवाब

Dainik Bhaskar

Oct 22, 2019, 04:28 PM IST

शाहजहांपुर. पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मामले में जेल में निरुद्ध एसएस लॉ कॉलेज की छात्रा को हाईकोर्ट से झटका लगा है। मंगलवार को छात्रा की ओर से दायर जमानत याचिका पर सुनवाई हुई। कोर्ट ने जमानत देने से इंकार कर दिया। पीड़िता के वकील ने कोर्ट में दलील दी कि, उसके खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं मिला है, बल्कि उसे फंसाया गया है। इस मामले में जस्टिस सिद्धार्थ की एकल पीठ ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है। मामले में 6 नवंबर को अगली सुनवाई होगी। मालूम हो कि, छात्रा की जमानत याचिका निचली अदालत से पहले ही रद्द हो चुकी है। 

 

एसआईटी ने सौंपी प्रोग्रेस रिपोर्ट
यौन शोषण व रंगदारी मामले की जांच एसआईटी कर रही है। एसआईटी ने मंगलवार को सीलबंद लिफाफे में हाईकोर्ट को प्रोग्रेस रिपोर्ट सौंप दी हैं। कोर्ट को जानकारी दी गई है कि, वीडियो क्लिप की रिपोर्ट फॉरेंसिक लैब से अभी तक नहीं आई है और इसमें 4 हफ्ते का वक्त लग सकता है। साथ ही रंगदारी मामले में दो और नाम प्रकाश में आए हैं, जिनके संबंध में सबूत जुटाए जा रहे हैं। मालूम हो कि, एसआईटी ने हाईकोर्ट में एक माह पहले 23 सितंबर को अपनी पहली स्टेटस रिपोर्ट दी थी। तब हाईकोर्ट ने एसआईटी को एक माह का वक्त देकर 22 अक्टूबर को दूसरी रिपोर्ट देने के लिए कहा था। 

 

ये है पूरा मामला
23 अगस्त को छात्रा हॉस्टल से लापता हो गई थी। 24 अगस्त को छात्रा का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें उसने अपहरण और यौन शोषण का आरोप लगाया था। 25 अगस्त को छात्रा के पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और धमकी देने का मामला दर्ज कराने के लिए पुलिस को तहरीर दी थी। 26 अगस्त को चिन्मयानंद के वकील ने अज्ञात के खिलाफ पांच करोड़ रुपए की फिरौती मांगने की रिपोर्ट दर्ज कराई। 

 

छात्रा रंगदारी प्रकरण में जेल में
30 अगस्त को छात्रा को उसके एक दोस्त के साथ पुलिस ने राजस्थान से बरामद किया। उसी दिन छात्रा को सुप्रीम कोर्ट में पेश किया गया। यौन शोषण के आरोपों को लेकर 12 सितंबर को एसआईटी ने चिन्मयानंद से करीब सात घंटे तक पूछताछ की थी। 20 सितंबर को एसआईटी ने चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार कर लिया था, जबकि 25 सितंबर को एसआईटी ने रंगदारी प्रकरण में छात्रा को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। तब छात्रा व उसके दोस्त भी जेल में हैं। सीजेएम कोर्ट ने चिन्मयानंद व छात्रा और उसके दोस्तों की जमानत याचिका खारिज हो चुकी है। 

 

 

DBApp


 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना