उप्र / झाड़ियों में छिपे मिले उज्ज्वला योजना के 5 हजार सिलेंडर और सैकड़ों रेगुलेटर, मुकदमा दर्ज



ujwala yojna gas cylinders found lying in bushes suspecting scam in balrampur
X
ujwala yojna gas cylinders found lying in bushes suspecting scam in balrampur

  • 2 साल बीतने के बाद भी पात्रों को नहीं दिए गए सिलेंडर, झाड़ियों में पाए गए
  • एजेंसी मालिक समेत पांच लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज

Dainik Bhaskar

Aug 23, 2019, 03:56 PM IST

बलरामपुर. उत्तरप्रदेश के बलरामपुर जिले में "उज्ज्वला योजना" में बड़ा घोटाला सामने आया है। बलरामपुर जिले के पचपेड़वा इलाके में चल रही भार्गव गैस एजेंसी ने लाभार्थियों को उज्जवला योजना से जुड़े गैस सिलेंडर न बांटकर उसे झाड़ियों में छिपा रखा था। सूचना के बाद जिला प्रशासन की टीम ने करीब 5000 सिलेंडर बरामद किए हैं। इनके साथ सैकड़ों की संख्या में रेगुलेटर भी बरामद हुए हैं। जांच के बाद डीएम के आदेश पर एजेंसी मालिक समेत पांच लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।

 

भार्गव गैस एजेंसी संचालक ने उज्जवला योजना के नाम पर जारी सिलेंडरों को लाभार्थियों को ना देकर उसे झाड़ियों में छिपा रखा था। जिसकी जानकारी मिलने पर जिला प्रशासन की टीम ने सिलेंडर जब्त किए। सिलेंडरों की संख्या ज्यादा होने चलते अधिकारियों के भी पसीने छूट गए और हिसाब किताब करने में दो दिन लग गए। 2 दिन चली जांच में सिलेंडरों की कुल संख्या 4912 सामने आई है। इसके साथ ही साथ हजारों की संख्या में रेगुलेटर भी बरामद हुए हैं। 

 

एजेंसी संचालक नहीं दे पाया जवाब

जिलापूर्ति अधिकारी व पुलिस पूछताछ के दौरान गैस एजेंसी संचालक द्वारा कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिला। एजेंसी संचालक ने बताया कि उसकी दुकान में कुछ दिनों पहले आग लग गयी जिसमे तमाम जरूरी दस्तावेज जलकर राख हो गए, जिसके चलते वह कोई दस्तावेज नही दिखा सकता। जिलापूर्ति अधिकारी की जांच के दौरान कोई वैद्य दस्तावेज न मिलने पर डीएम के आदेश पर पचपेड़वा थाने में गैस एजेंसी संचालक सहित पांच लोगों पर केस दर्ज कर लिया गया है।

 

4912 सिलेंडर बरामद किए

पूरे मामले में जिलाधिकारी ने बताया कि 3 से 4 दिन पहले ज्यादा मात्रा में सिलेंडर छिपाकर रखे जाने की सूचना मीडिया के माध्यम से मिली थी। पता करने पर यह पता चला कि यह सिलेंडर भार्गव गैस एजेंसी के हैं, कुछ सिलेंडर घर के पीछे तो कुछ झाड़ियों में छिपाकर रखे गए थे। जांच के दौरान कुल 4912 सिलेंडर बरामद हुए हैं।

 

उन्होंने बताया कि इस संबंध में एजेंसी संचालक से पूछताछ की गई तो उसके द्वारा बताया गया कि कुछ दिन पहले उसके ऑफिस में आग लग गई थी जिसके कारण वह अभिलेख दिखाने की स्थिति में नहीं है। एजेंसी संचालक के विरुद्ध 3/7 की धारा में मुकदमा दर्ज करा दिया गया साथ ही अन्य अवशेषों की जांच कराई जा रही है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना