उप्र / टेरर फंडिंग के मामले में चार गिरफ्तार, छह लाख भारतीय व नेपाली मुद्रा बरामद



प्रेस कांफ्रेंस करते डीजीपी ओपी सिंह। प्रेस कांफ्रेंस करते डीजीपी ओपी सिंह।
X
प्रेस कांफ्रेंस करते डीजीपी ओपी सिंह।प्रेस कांफ्रेंस करते डीजीपी ओपी सिंह।

  • यूपी एटीएस व लखीमपुर खीरी पुलिस ने आरोपियों को पकड़ा
  • इस काम के लिए आरोपियों को मिलता था छह फीसदी कमीशन 

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2019, 06:52 PM IST

लखनऊ. यूपी एटीएस व लखीमपुर पुलिस ने टेरर फंडिंग के मामले में चार आरोपियों को पकड़ा है। आरोपियों के पास भारतीय व नेपाली करेंसी और सेलफोन बरामद हुए हैं। गिरफ्तार आरोपियों में से दो बरेली व दो लखीमपुर के तिकुनिया इलाके के रहने वाले हैं। ये विदेश से नेपाल के बैंकों में आने वाली मुद्रा को भारतीय मुद्रा में तब्दील कर लखीमपुर खीरी के रास्ते देशभर में भेजते थे। इन रूपए का प्रयोग आतंकी घटनाओं में किया जाता था। 

 

पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि, इस टेरर फंडिंग की जानकारी पुलिस को मिली थी। पता चला कि, 10 अक्टूबर को काफी मात्रा में नेपाल से धनराशि लाई जा रही है। इस सूचना के आधार पर एटीएस व लखीमपुर खीरी की संयुक्त टीम ने बरेली निवासी उम्मेद अली, समीर सलमानी और लखीमपुर खीरी निवासी संजय अग्रवाल और एराज अग्रवाल को गिरफ्तार किया गया। उम्मेद अली के कब्जे से दो लाख भारतीय मुद्रा, संजय अग्रवाल के कब्जे से एक लाख 35 हजार नेपाली मुद्रा, समीर सलमानी के पास से एक लाख 50 हजार भारतीय मुद्रा और एराज अली के कब्जे से एक लाख भारतीय मुद्रा बरामद की गई। 

 

डीजीपी ने बताया कि ये लोग मुमताज, फहीम, सिराजुद्दीन और सदाकत अली के कहने पर यह काम कमीशन लेकर करते थे। ये अभियुक्त विदेशी मुद्रा को नेपाल के बैंकों में जमा करवाते थे और खाता धारक को पांच फीसदी कमीशन देते थे। यहां नेपाली मुद्रा को भारतीय मुद्रा में बदलवा दिया जाता था। इस कार्य में अभियुक्तों के छह फीसद कमीशन मिलता था। अभियुक्तों ने बताया कि ये धन बरेली निवासी फईम और सदाकत को दिया जाता था और उनसे कमीशन ले लिया जाता था। फईम और सदाकत इस रकम को दिल्ली पहुंचाते थे।

 

अब जांच में शामिल होंगे ये विंदु

डीजीपी ने बताया कि, आरोपियों से यह पता लगाया जाएगा कि नेपाली खाते में पैसा कहां से कैसे आता था? मुमताज के नेपाली लिंक कौन कौन से हैं? फहीम व सदाकत द्वारा ये पैसा किन किन लोगों को दिया गया? किस प्रकार की आतंकी गतिविधियां की गई? किस किस को आतंकवाद संचालन के लिए पैसा दिया गया? 

 

DBApp


 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना