बदायूं / कर्ज में डूबे अधेड़ किसान ने दी जान, 9 साल में 80 हजार के लोन पर ब्याज बढ़कर हुआ था ढाई लाख

किसान हेम सिंह। -फाइल किसान हेम सिंह। -फाइल
X
किसान हेम सिंह। -फाइलकिसान हेम सिंह। -फाइल

  • बदायूं के बिल्सी थाना इलाके के सदरपुर गांव का रहने वाला था मृतक
  • परिवार ने बैंक कर्मियों व तहसील कर्मचारियों पर लगाया उत्पीड़न का आरोप

दैनिक भास्कर

Oct 11, 2019, 01:20 PM IST

बदायूं. जिले के एक 52 वर्षीय किसान ने कर्ज से परेशान होकर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। 9 साल पहले किसान ने बैंक से 80 रुपए कर्ज लिया था, जो समय बीतने के साथ ढाई लाख का कर्ज हो गया था। परिजनों का आरोप है कि, बैंक कर्मियों व तहसील कर्मियों के दबाव के चलते किसान ने ऐसा आत्मघाती कदम उठाया है। परिवार ने सरकार से सहायता की मांग की है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 

 

बिल्सी थाना क्षेत्र सदरपुर गांव निवासी किसान हेम सिंह (52) ने साल 2010 में भूमि विकास बैंक से 80 हजार रूपए मुर्गी पालन के लिए कर्ज लिया था। जिसे वह चुका नहीं पा रहा था। उसका व्याज ढाई लाख रुपए से ज्यादा होने के चलते उसकी आरसी भी कट गई। इसी के चलते बैंक कर्मचारी हेम सिंह पर दबाव बना रहे थे। इससे परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली। शुक्रवार सुबह उसका शव पेड़ से लटकता पाया गया।  


मृतक के बेटे मुनेश ने बताया कि, बैंक कर्मचारियों ने 10 अक्टूबर तक बकाया जमा करने की बात कहनी थी। कुछ दिन पहले बैंक कर्मचारियों ने ट्रैक्टर खिंचकर ले जा रहे थे। लेकिन पिता और परिजनों सहित गांववालों की मनुहार पर बैंक कर्मियों ने 10 अक्टूबर तक का समय दिया था। आर सी काटने के बाद तहसील का वसूली के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था। इस दबाव के चलते पिता ने आत्महत्या कर ली। परिजनों का कहना है सरकार उनकी मदद करे।

 

गांव के इरशाद अली का कहना है कि हेम सिंह की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। जिस कारण कर्ज न चुका पाने की वजह से ही आत्महत्या की है। बैंक और तहसील के कर्मचारी उसे काफी परेशान कर रहे थे। जिसकी वजह से तंग आकर उसे आत्महत्या का कदम उठाना पड़ा। 

 

DBApp

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना