बस में यात्री की मौत होने पर कंडक्टर व ड्राइवर ने शव के साथ पत्नी को बीच रास्ते उतारा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बीच रोड बिलखती महिला। - Dainik Bhaskar
बीच रोड बिलखती महिला।
  • पीड़ित महिला का आरोप- यात्रा का सबूत न रहे, इसके लिए कंडक्टर ने टिकट भी छीना
  • पति के साथ बहराइच से लखनऊ आ रही थीं महिला, बीच रास्ते अचानक हुई मौत

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की संवेदनहीनता का मामला सामने आया है। बस से सफर कर रहे एक शख्स की मौत हो गई तो यह देख बस के चालक और परिचालक ने रास्ते में ही पत्नी को शव सहित जबरन सिर्फ उतारा ही नहीं बल्कि उसका टिकट भी छीन लिया और मौके से फरार हो गए। दंपती जनपद बहराइच से राजधानी लखनऊ अपने कैंसर से पीड़ित रिश्तेदार को देखने जा रहे थे।

 

कैंसर पीड़ित रिश्तेदार से मिलने जा रहे थे दंपती

मामला बाराबंकी जनपद के रामनगर चौराहे का है। परिवहन विभाग की बहराइच डिपो की बस (यूपी 40- टी -5510) में बुधवार की सुबह एक महिला अपने पति के साथ लखनऊ जाने के लिए सवार हुई। दोनों लखनऊ में कैंसर से पीड़ित अपने एक रिश्तेदार का हाल जानने के लिए जा रहे थे। लेकिन रास्ते में युवक की मौत हो गई। जब इसकी जानकारी बस के चालक व परिचालक को हुई तो उन्होंने रमनगर चौराहे पर बस रोक दी और शव के साथ महिला को उतार दिया। 

 

चालक परिचालक पर होगी कार्रवाई

आरोप है कि, बस यात्रा का किसी तरह का कोई सबूत न रहे, इसके लिए बस के परिचालक ने पीड़ित महिला उसे टिकट छीन लिया और बस लेकर भाग खड़ा हुआ। जब तक आसपास के लोग कुछ समझ पाते तब तक यह बस लोगों की आंखों से ओझल हो चुकी थी। बाराबंकी डिपो के केन्द्र प्रभारी मनोज कुमार ने कहा कि, उनके संज्ञान में यह प्रकरण नहीं है। मगर इसकी जांच करवाकर चालक और परिचालक के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।