उन्नाव केस / हादसे का 9वां दिन: पीड़िता की हालत अभी नाजुक, तीस हजारी कोर्ट ने डीजीपी यूपी से मांगी रिपोर्ट



घायल वकील को एंबुलेंस में शिफ्ट करते मेडिकल कर्मी। घायल वकील को एंबुलेंस में शिफ्ट करते मेडिकल कर्मी।
X
घायल वकील को एंबुलेंस में शिफ्ट करते मेडिकल कर्मी।घायल वकील को एंबुलेंस में शिफ्ट करते मेडिकल कर्मी।

  • पीड़िता के बाद अब वकील को भी एयरलिफ्ट करके दिल्ली एम्स ले जाया गया
  • सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने पीड़िता व वकील को एम्स भिजवाने का दिया था आदेश
  • सोमवार को पीड़िता को एयरलिफ्ट करके दिल्ली एम्स में भेजा गया था

Dainik Bhaskar

Aug 06, 2019, 01:58 PM IST

लखनऊ. उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की हालत हादसे के 9 दिन बाद भी नाजुक बनी हुई है। सोमवार की शाम उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता को एयरलिफ्ट कर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली ले जाया गया था। मंगलवार को एम्स ने पीड़िता की स्वास्थ्य स्थिति पर बुलेटिन जारी किया है। बताया कि, अभी भी पीड़िता की हालत नाजुक है। ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए दवाएं दी जा रही है। वेंटिलेटर पर ही अभी रखा गया है। विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम पीड़िता की सेहत पर निगरानी रख रही है। वहीं, मंगलवार को हादसे में घायल वकील को भी एयरलिफ्ट करके दिल्ली एम्स ले जाया गया है। हादसे के बाद नौ दिन बाद भी वकील की हालत नाजुक है। वह डीप कोमा में हैं।

 

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सोमवार को पीड़िता को एयरलिफ्ट करके एम्स ले जाया गया था। 28 जुलाई को हुए हादसे के बाद दुष्कर्म पीड़िता व उसके वकील का इलाज लखनऊ के ट्रामा सेंटर में चल रहा था।

 

तीस हजारी कोर्ट ने डीजीपी यूपी से मांगी सुरक्षा की रिपोर्ट
दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने उन्नाव मामले में सीबीआई से परिवार और पीड़ित के परिचारकों को सुरक्षा और रहने की सुविधा के बारे में जानकारी मांगी है। कोर्ट ने वहां के गवाहों की सुरक्षा के संबंध में डीजी यूपी से रिपोर्ट भी मांगी। इस मामले में आठ अन्य आरोपियों को मंगलवार को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया। इससे पहले आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और शशि सिंह को पेश किया गया था, जिन्हें कोर्ट ने सात अगस्त तक के लिए तिहाड़ जेल भेज दिया। इसी दिन आरोप तय करने को लेकर तीस हजारी कोर्ट में बहस होगी। फिलहाल केस से जुड़े कागजात पूरी तरीके से कोर्ट के पास नहीं पहुंचे हैं। 

 

पीड़िता चाचा से मिलने जा रही थी, ट्रक ने मारी टक्कर
पीड़िता अपनी चाची, मौसी और वकील के साथ 28 जुलाई को कार से रायबरेली जेल में बंद चाचा से मिलने जा रही थी। इसी दौरान सामने से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने उनकी कार को टक्कर मारी थी। हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई थी। चाची दुष्कर्म मामले में सीबीआई की गवाह थी।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना