प्रिंसपल से अभद्रता करने पर कोतवाल को लगी फटकार तो प्रार्थना सभा में सबके सामने मांगी माफी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रार्थना सभा में माफी मांगी। - Dainik Bhaskar
प्रार्थना सभा में माफी मांगी।
  • मंगलवार को जज की सिफारिश लेकर दो बच्चों का दाखिला कराने पहुंचे थे कॉलेज
  • प्रधानाचार्य ने अफसरों से की शिकायत, कहा था- शिक्षण कार्य ठप कर दूंगा

लखनऊ. बख्शी तालाब कोतवाली के प्रभारी अमरनाथ वर्मा ने मंगलवार को बीकेटी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य पर नियमों को दरकिनार कर दो छात्रों का दाखिला करने का दबाव बनाया। प्रधानाचार्य ने मना कर दिया तो कोतवाल अमरनाथ अभद्रता पर उतर आए। शिक्षकों के सामने कोतवाल ने प्रधानाचार्य को अपशब्द कहे और झूठे मुकदमें में फंसाने की धमकी दे डाली। अपमान से आहत प्रधानाचार्य ने इसकी शिकायत डीएम, एसएसपी व डीआईओएस से की। एसएसपी ने कोतवाल को फटकार लगाई तो बुधवार को वो कॉलेज पहुंचे और प्रार्थना सभा में सार्वजनिक रूप से अपने कृत्यों पर माफी मांगी।

 

दो छात्रों के दाखिले का बनाया था दबाव

मंगलवार सुबह करीब साढ़े 11 बजे बख्शी तालाब कोतवाली के कोतवाल अमरनाथ वर्मा पुलिसकर्मियों के साथ बीकेटी इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य आरके सिंह तोमर के कार्यालय पहुंचे। उन्हें एक पर्ची देकर कर दो छात्रों का कक्षा 11 में प्रवेश करने का दबाव बनाया। कहा कि, जज साहब की सिफारिश है। प्रधानाचार्य ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि, क्षमता से अधिक बच्चों का दाखिला कॉलेज में हो चुका है। प्रवेश प्रक्रिया बंद हो चुकी है। 

 

शिक्षकों के सामने प्रधानाचार्य से की अभद्रता

आरोप है कि प्रधानाचार्य के इतना कहते ही कोतवाल गुस्से से आग बबूला हो गए और उनके कार्यालय में ही उन्हें अपशब्द कहते हुए अभद्रता करने लगे। प्रधानाचार्य ने आरोप लगाया कि थाना प्रभारी ने शिक्षकों और छात्रों के सामने ही गालियां देकर उन्हें न सिर्फ अपमानित किया, बल्कि फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी भी देकर चले गए। प्रधानाचार्य ने डीएम, एसएसपी, डीआईओएस से मामले की शिकायत की। 

 

माफी मांगकर बोले कोतवाल- कुछ गलतफहमियां हो गई थी

मामला तूल पकड़ते ही अधिकारियों ने कोतवाल को फटकार लगाई। बुधवार सुबह प्रार्थना सभा के दौरान कोतवाल कॉलेज पहुंचे और सबके सामने मांगी माफी। बोले, कुछ गलतफहमियां हो गई थीं। ग्रह नक्षत्र खराब होता है तो ये सब चीजें होती हैं। मेरे पिता भी प्रिंसिपल थे, पत्नी टीचर है। मैं शाम को खुद आने वाला था, लेकिन इससे पहले ही तय हो गया कि प्रार्थना सभा में आना है तो चला आया। प्रधानाचार्य को राष्ट्रपति के राज्य शिक्षण पुरस्कार से वर्ष 2016 में सम्मानित किया जा चुका है।