पीलीभीत / कोर्ट के आदेश पर 7 माह बाद कब्र से निकाला गया शव; परिवार ने न्याय के लिए मांगी थी इच्छामृत्यु



X

  • पिछले साल नवंबर माह में संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी युवक की मौत
  • पीड़ित परिवार का आरोप- प्रेम प्रसंग में लड़की के घर वालों ने की थी हत्या

Dainik Bhaskar

Jul 11, 2019, 07:21 PM IST

पीलीभीत. सात माह पहले थाना पूरनपुर क्षेत्र के गांव शेरपुर में हादसे का शिकार हुए युवक की मौत के मामले में नया मोड़ आया है। मृतक के परिजनों द्वारा सामूहिक इच्छामृत्यु की मांग पर डीएम ने कब्र से शव को बाहर निकलवा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। परिजनों का आरोप है कि युवक की मौत हादसा नहीं हत्या है। पुलिस की कार्रवाई के बाद से आरोपी घर छोड़कर फरार हैं। 

 

गांव शेरपुर के रहने वाले साजिद का गांव की ही एक लड़की से प्रेम प्रसंग था। इसे लेकर लड़की के परिवार वाले उससे रंजिश मानते थे। साजिद के परिजनों का आरोप है कि 23 नवंबर 2018 को उसकी हत्या कर शव को रोड पर फेंक दिया गया, ताकि हत्या का मामला हादसे में बदल जाए।

 

परिजनों ने गांव निवासी अंसार, नूर इस्लाम, जमाल व मंसूर को नामजद करते हुए थाने में तहरीर दी थी। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। मृतक के परिवार ने कार्रवाई की आस में जिले के अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री को लेटर लिखा।

 

बावजूद इसके कोई कार्रवाई आगे नहीं बढ़ी। इससे तंग आकर परिवार ने कोर्ट की शरण ली। राष्ट्रपति को लेटर लिखकर सामूहिक रूप से इच्छा मृत्यु मांगी। कोर्ट के आदेश पर जिलाधिकारी ने एक पैनल गठित किया। गुरुवार को शव को कब्र से निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। इसके बाद से नामजद चारों आरोपी फरार हैं।

COMMENT