रामपुर / पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस आजम के कब्जे से मुक्त, एपीजे अब्दुल कलाम अतिथि गृह मिला नाम



गेस्ट हाउस को साफ कराया गया। गेस्ट हाउस को साफ कराया गया।
X
गेस्ट हाउस को साफ कराया गया।गेस्ट हाउस को साफ कराया गया।

  • साल 2015 में बनवाया गया था गेस्ट हाउस
  • जौहर यूनिवर्सिटी की हद में बनाया गया था गेस्ट हाउस

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 07:25 PM IST

रामपुर. जिला प्रशासन ने शुक्रवार को जौहर यूनिवर्सिटी से लगे लोक निर्माण विभाग के गेस्ट हाउस को सपा सांसद आजम खान के अवैध कब्जे से मुक्त कराया। साथ ही इस गेस्ट हाउस को मिसाइल मैन पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम किया गया है। इस बात का ऐलान पूर्व में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद ने राजधानी से किया था। उन्होंने कहा कि, गेस्ट हाउस का नाम अब्दुल कलाम आतिथ्य गृह रखा जाएगा। 

 

सपा शासन में बनाया गया था गेस्ट हाउस
रामपुर के सींगनखेड़ा में बना लोक निर्माण विभाग का गेस्ट हाउस पहले से ही काफी विवादित रहा है। दरअसल 2.28 करोड़ रूपए की लागत से बने इस गेस्ट हाउस का निर्माण 2015-16 में कराया गया था। तब समाजवादी पार्टी की सरकार थी। तब गेस्ट हाउस का रास्ता जौहर विश्वविद्यालय के भीतर से जाता था। भाजपा सरकार बनने पर तत्कालीन जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी ने भाजपा नेता आकाश सक्सेना की शिकायत पर शासन को भेजी अपनी रिपोर्ट में कहा कि उक्त गेस्ट हाउस पीडब्ल्यूडी ने बनवाया था। यह गेस्ट हाउस जौहर विश्वविद्यालय की चाहरदीवारी के भीतर आता है, जबकि इसका रास्ता भी विश्वविद्यालय के प्रमुख द्वार से होकर जाता है। इस गेस्ट हाउस पर सपा सांसद आजम खान का कब्जा था। 

 

शानदार है गेस्ट हाउस
अपर जिलाधिकारी जेपी गुप्ता ने बताया कि, गेस्ट हाउस में 3 सूट्स बने हुए हैं। एक सिंगल रूम व मीटिंग हॉल है। जिलाधिकारी के निर्देशन में जिसको एपीजे अब्दुल कलाम आजाद विशिष्ट कैटेगरी के रूप में और इसको हम लोग प्रचारित कर रहे हैं। इसके रास्ते खराब थे। जिसे सही करा दिया गया है। यह पीडब्ल्यूडी का गेस्ट हाउस है और जब हमें पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस का कब्जे में होने का पता चला तो उसको हम लोगों ने जौहर यूनिवर्सिटी के कब्जे से मुक्त कराया था। इसका रास्ता जौहर यूनिवर्सिटी और दूसरी ओर से भी है। वहीं किसी तरह का अवरोध न हो, इसके बारे में संज्ञानित कर दिया गया है। 

 

DBApp


 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना