उप्र / रोड पर धार्मिक आयोजनों पर लगेगा प्रतिबंध, डीजीपी ने कहा- पूरे प्रदेश में लागू होगा अलीगढ़ मॉडल



डीजीपी ओपी सिंह। डीजीपी ओपी सिंह।
X
डीजीपी ओपी सिंह।डीजीपी ओपी सिंह।

  • अलीगढ़ व मेरठ में जिला प्रशासन ने सार्वजनिक स्थानों पर धार्मिक आयोजन पर पहले ही लगा रखा है बैन
  • डीजीपी ने कहा- जल्द जारी होंगे दिशा निर्देश, स्वतंत्रता दिवस को लेकर यूपी में अलर्ट जारी

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 10:02 AM IST

लखनऊ. अब उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक जगहों पर नमाज और अन्य धार्मिक कार्यक्रम नहीं होंगे। पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि, ऐसे किसी भी धार्मिक कार्यक्रम की अनुमति नहीं मिलेगी, जिससे आम लोगों को परेशानी हो। अलीगढ़, मेरठ में पिछले दिनों यह व्यवस्था लागू हुई है, अब इसे पूरे यूपी में लागू किया जाएगा। डीजीपी ने स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर यूपी में अलर्ट घोषित किया है। 

आयोजन से पहले अनुमति अनिवार्य, जल्द जारी होंगे दिशा निर्देश

  1. बीते कई माह से उत्तर प्रदेश के अलग अलग जिलों में सार्वजनिक स्थानों पर नमाज, हनुमान चालीसा, महाआरती जैसे कार्यक्रमों की खबरें आईं। जिससे रोड पर आवागमन प्रभावित हुआ, वहीं कई जगहों पर टकराव की स्थिति भी बनी। इसे देखते हुए बीते दिनों अलीगढ़ जिला प्रशासन व मेरठ में जिला प्रशासन ने सार्वजिक स्थानों पर धार्मिक आयोजन पर प्रतिबंध लगा दिया। स्पष्ट कहा कि, आयोजन से पहले अनुमति लेना अनिवार्य है। 

  2. परिणाम यह रहा कि, अलीगढ़ व मेरठ में बकरीद के मौके पर प्रतिबंधित पशुओं की कटान पर लगाम लगी तो सार्वजनिक स्थानों पर धार्मिक आयोजन भी नहीं हुए। हालांकि बकरीद, ईद जैसे प्रमुख पर्व पर मस्जिदों के बाहर नमाज पढ़ने के लिए छूट जरुर दी गई थी।  

     

  3. डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि, कानून व्यवस्था और जन सुविधा को प्रभावित करने वाले धार्मिक आयोजनों पर रोक लगाने के लिए मेरठ मॉडल को प्रदेश के अन्य जिलों में भी लागू किया जाएगा। सड़क और सार्वजनिक स्थानों पर नमाज अथवा अन्य धार्मिक आयोजन पर लगाया गया प्रतिबंध आगे भी जारी रहेगा। इसे लेकर पुलिस महानिदेशक मुख्यालय से जरूरी जल्द निर्देश लागू किए जाएंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना