उप्र / अखिलेश ने लोकसभा चुनाव में हार के कारणों को तलाशा; मुलायम भी रहे साथ, अब लक्ष्य 2022 की तैयारी



सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव।
X
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव।

  • सपा प्रवक्ता जगदेव सिंह ने कहा; 2022 विधानसभा चुनाव की तैयारी करने का निर्देश दिया गया
  • सूत्रों की मानें तो सभी फ्रंटल संगठन पदाधिकारियों व जिलाध्यक्षों का नए सिरे से होगा चयन

Dainik Bhaskar

May 27, 2019, 06:27 PM IST

लखनऊ. भाजपा को हराने के लिए बसपा के साथ गठबंधन कर लोकसभा चुनाव में उतरी समाजवादी पार्टी को करारी हार मिली है। सोमवार को हार पर समीक्षा करने के लिए सपा मुख्यालय में पहली बैठक हुई। जिसमें सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव व संरक्षक मुलायम सिंह यादव एकसाथ मौजूद रहे। सपा प्रवक्ता जगदेव सिंह ने कहा कि, पार्टी नेताओं को 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू करने के लिए कहा गया है। हालांकि, उन्होंने पार्टी पदाधिकारियों पर कार्रवाई के सवाल टाल दिया। लेकिन सभी फ्रंटल संगठनों को एक नए सिरे से गठित करने की बात तय मानी जा रही है। 

मुलायम की राह पर चलेंगे अखिलेश

सूत्र बताते हैं कि, हार के बाद अखिलेश यादव पार्टी संगठन में बड़ा फेरबदल कर सकते हैं। इस बात भी बैठक में विचार किया गया है। प्रदेश अध्यक्ष को भी बदला जा सकता है। इतना ही सभी फ्रंटल यूनिट के अध्यक्षों और जिलाध्यक्षों को भी बदला जा सकता है। सूत्र बताते हैं कि, अखिलेश यादव, मुलायम सिंह यादव की तरह ही अब संगठन को मजबूत करेंगे। संगठन का ढांचा ठीक उसी तरह होगा जैसा कभी मुलायम सिंह के समय में हुआ करता था। अखिलेश यादव का अब पूरा फोकस संगठन में आमूलचूल परिवर्तन करने का है।

 

गठबंधन के बावजूद जीती महज पांच सीट
बसपा के साथ गठबंधन के बावजूद समाजवादी पार्टी को महज पांच सीटें ही हासिल हुईं। इतना ही नहीं सपा के दुर्ग कहे जाने वाले कन्नौज, बदायूं और फिरोजाबाद में परिवार के सदस्य भी हार गए। कहा जा रहा है कि पार्टी में जमीनी नेताओं की अनदेखी का खामियाजा पार्टी को भुगतना पड़ा है। अखिलेश यादव अब 2022 के विधानसभा चुनाव और 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले संगठन को चुस्त-दुरुस्त करने में जुट गए हैं।

 

विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करेगी सपा

सपा प्रवक्ता जगदेव सिंह यादव ने बताया कि पार्टी में बैठक कर लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन की समीक्षा की जा रही है। साथ ही पार्टी नेताओं से 2022 में प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए तैयारी करने को कहा गया है। उन्होंने भाजपा के प्रदर्शन को लेकर चुनाव में धनबल और बाहुबल के प्रयोग का आरोप भी लगाया और उम्मीद जताई कि आगामी 2022 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी बेहतर प्रदर्शन करेगी। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना