उन्नाव केस / सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए सीबीआई को दो हफ्ते का समय और दिया, पीड़िता को आया होश



आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर। आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर।
X
आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर।आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर।

  • मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़िता ने सीबीआई को दिए बयान में कहा है कि विधायक ने ही मुझे मारने की साजिश रची थी
  • इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट सीबीआई को चार्जशीट दाखिल करने के लिए दो सफ्ताह का समय बढ़ाया था
  • 28 जुलाई को रायबरेली जाते समय हादसे का शिकार हो गई थी दुष्कर्म पीड़िता

Dainik Bhaskar

Sep 06, 2019, 03:29 PM IST

लखनऊ.  शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के साथ हुए हादसे की चार्जशीट दाखिल करने के लिए सीबीआई को दो सप्ताह का समय और दिया है। अदालत ने एम्स में पीड़िता के लिए अस्थाई कोर्ट बनाने की बात भी कही। इससे पहले भी 19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को जांच पूरा करने के लिए दो हफ्ते का समय दिया था।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुवार को पीड़िता ने सीबीआई को बयान दिया। इसमें उसने कहा, 'कुलदीप सेंगर ने ही एक्सीडेंट में मुझे मारने की साजिश रखी थी। इस पर कोई शक नहीं है।' पीड़िता ने यह भी बताया कि विधायक सेंगर का गुर्गा उन्नाव कोर्ट परिसर में अक्सर जान से मारने की धमकी देता था। उसकी मां भी दुष्कर्म मामले में आरोपी है। 28 जुलाई को पीड़िता की कार हादसे का शिकार हो गई थी, जिसमें उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई थी। जबकि पीड़िता और उसका वकील गंभीर तौर पर घायल हो गया था। 

 

45 दिनों में ट्रॉयल पूरा करने की सीमा को बढ़ा सकती है कोर्ट: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि इस मामले की सुनवाई कर रही निचली अदालत यदि 45 दिनों में ट्रॉयल पूरा करने की सीमा को बढ़ाना चाहती हैं तो वे कोर्ट को बता सकते हैं। इससे पहले एक अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने पीड़िता के साथ हुए हादसे की जांच 14 दिन में पूरी करने का सीबीआई को आदेश दिया था। सीबीआई की 20 सदस्यीय टीम इस मामले की जांच कर रही है।

 

दुष्कर्म मामले की जांच लगभग पूरी
सूत्रों ने बताया कि दुष्कर्म मामले की जांच सीबीआई ने पूरी कर ली है। इसकी रिपोर्ट जल्द ही सुप्रीम कोर्ट को सौंपी जाएगी।  

 

आरोपी विधायक पर तय हो चुके हैं आरोप
दुष्कर्म पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौत मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट विधायक कुलदीप, उसके भाई अतुल, यूपी पुलिस के तीन कर्मियों और पांच अन्य लोगों पर आरोप तय कर चुकी है। 9 अप्रैल 2018 को उन्नाव में पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत हो गई थी। वहीं, 9 अगस्त को कोर्ट ने कहा था कि विधायक सेंगर के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं, जिससे तय होता है कि उन्होंने दुष्कर्म किया था। कोर्ट ने विधायक सेंगर पर आईपीसी की धारा 120 बी, 363, 366, 109, 376 (आई) और पॉक्सो एक्ट के तहत आरोप तय किए। वर्तमान में विधायक तिहाड़ जेल में बंद है। 

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना