उप्र / आकाशीय बिजली की चपेट में आकर बरेली व आगरा में सगे भाई-बहनों समेत चार की मौत



बच्चों की मौत के बाद गांव में शोक है। बच्चों की मौत के बाद गांव में शोक है।
X
बच्चों की मौत के बाद गांव में शोक है।बच्चों की मौत के बाद गांव में शोक है।

 

  • तहसीलदार व अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने गांव पहुंचकर लिया जायजा

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 05:52 PM IST

आगरा. गुरुवार को यूपी के अलग-अलग हिस्सों में गरज-चमक के साथ हुई बारिश जानलेवा साबित हुई है। आगरा में सगे भाई-बहन की आकाशीय बिजली की चपेट में आकर मौत हो गई, वहीं, बरेली में भी चचेरे भाइयों की मौत आकाशीय बिजली से हुई है। घटना के दौरान सभी खेत में थे। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। तहसीलदार ने गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाया है। 

 

विक्रमपुर गांव निवासी रामनिवास निषाद की 9 वर्षीय पुत्री रोशनी और 6 वर्षीय पुत्र सूरज गुरुवार दोपहर घर के पीछे खेतों से पशुओं को भगाने गए थे। तभी अचानक गरज-चमक के साथ बारिश शुरू हो गई। दोनों बच्चे खेतों से घर की तरफ आने लगे, तभी गिरी आकाशीय बिजली की चपेट में आकर दोनों की मौत हो गई। 

 

आकाशीय बिजली गिरने की आवाज पर परिजन खेतों की तरफ दौड़े तो देखा कि, दोनों बच्चे झुलसे हुए मृत अवस्था में पड़े थे। इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दी गई। पुलिस और तहसीलदार हेमचंद मौके पर पहुंचे। उन्होंने घटना का जायजा लेकर दोनों शवों का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। तहसीलदार ने उचित मुआवजा दिलाने का भरोसा दिया है। 

 

उधर, बरेली के भमोरा थाना क्षेत्र के गांव नगला निवासी ओमकार (12), नरेन्द्र (12) चचेरे भाई थे। दोनो भाई गांव के समीप एक निजी विद्यालय में कक्षा पांच में पढ़ते थे। गुरुवार को गांव में भण्डारा होने की वजह से दोनों स्कूल नहीं गए। दोपहर में खेत में फसल की रखवाली करने गए थे, तभी गरज-चमक के साथ शुरु हुई बारिश के दौरान गिरी आकाशीय बिजली की चपेट में आकर दोनों की मौत हो गई। तहसील प्रशासन ने मौके पर पहुंच कर परिवार को ढांढस बंधाया, और सरकारी सहायता देने का आश्वासन देकर शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 

COMMENT