न्यूज़

--Advertisement--

अकबर नहीं महाराणा प्रताप महान थे, उस ज़माने में भी उन्होंने अपना स्वाभिमान बचाये रखा: योगी आदित्यनाथ

पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा।

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 01:10 PM IST
इस मौके पर आरएसएस की अवध प्रहरी पाक्षिक पत्रिका के युवा शौर्य विशेषांक का भी विमोचन किया गया। इस मौके पर आरएसएस की अवध प्रहरी पाक्षिक पत्रिका के युवा शौर्य विशेषांक का भी विमोचन किया गया।

लखनऊ. महाराणा प्रताप की जयंती के मौके पर आरएसएस द्वारा आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने ने कहा कि अकबर नहीं बल्कि महाराणा प्रताप महान थे। उन्होंने उस जमाने में भी अपना स्वाभिमान बचाये रखा। वहीँ इस मौके पर आरएसएस की अवध प्रहरी पाक्षिक पत्रिका के युवा शौर्य विशेषांक का भी विमोचन किया गया।

500 साल बाद इसलिए महाराणा प्रताप याद किये जाते हैं

-सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने उद्बोधन में कहा कि महाराणा प्रताप के सामने अकबर का एक संदेश था कि वे उसे अपना बादशाह स्वीकार कर लें। ये संदेश ले जाने वालों में जयपुर के राजा मान सिंह भी थे लेकिन महाराणा प्रताप ने इसे एक बार भी स्वीकार नहीं किया। लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद अधर्मी, विदेशी को महाराणा प्रताप ने बादशाह स्वीकार नहीं किया। उस समय अकबर के साथ स्वाभिमान, सम्मान गिरवी रखने वाले राजा भी थे लेकिन महाराणा प्रताप ने स्वाभिमान, सम्मान को अपने छोटे से राज्य के साथ जीवित रखा। यही कारण है 500 साल बाद भी लोग महाराणा प्रताप को याद कर रहे हैं। अगर उन्होंने अकबर की शर्त मान ली होती तो क्या आज मेवाड़ को हम स्वाभिमान का प्रतीक मान रहे होते। महान अकबर नहीं महान महाराणा प्रताप थे जिन्होंने उस काल मे भी स्वाभिमान सम्मान बनाए रखा।

पूरे कार्यक्रम में रहा दलितों पर फोकस

-पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा। जयंती महाराणा प्रताप की मनाई जा रही थी लेकिन कार्यक्रम की अध्यक्षता एससी/एसटी आयोग के चेयरमैन बृजलाल कर रहे थे जोकि यूपी के पूर्व डीजीपी रहे हैं और जाति से जाटव हैं।
-वहीँ सीएम योगी ने भी महाराणा प्रताप के जरिये दलितों का संघर्ष बताया। उन्होंने कहा कि वनवासी समाज आज भी अपने को राणाप्रताप का वंशज मानते हैं। ये वही वनवासी हैं जिन्हें आज हम दलित और पिछड़ा मानते हैं। इन्ही के साथ की वजह से महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, गुरु गोविन्द ने लड़ाईयां जीती और विजयी हुए।


पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा। पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा।
X
इस मौके पर आरएसएस की अवध प्रहरी पाक्षिक पत्रिका के युवा शौर्य विशेषांक का भी विमोचन किया गया।इस मौके पर आरएसएस की अवध प्रहरी पाक्षिक पत्रिका के युवा शौर्य विशेषांक का भी विमोचन किया गया।
पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा।पूरे कार्यक्रम के दौरान दलितों पर ही आरएसएस और यूपी सीएम का फोकस रहा।
Click to listen..