--Advertisement--

मुंबई में मालिक के यहां से 80 लाख रुपए चुराकर कोलकता-बेंगलुरु के फाइव स्टार होटल में रुका, 2 महीने बाद पहुंचा मथुरा और प्रायश्चित में खर्च कर डाले 16 लाख रु.

पुलिस को उसके पास से 5 एपल आइफोन, 10 लाख रुपए नगद और 120 ग्राम सोना बरामद हुआ है।

Danik Bhaskar | Jun 25, 2018, 07:08 PM IST

मथुरा (यूपी). मुंबई में कुरियर कंपनी में काम करने वाले 36 वर्षीय रमेश रावत ने अपने मालिक के यहां से 80 लाख रुपए चुराए और भाग गया। बाद में जब उसे लगा कि उसने गलत किया है, तो पापों का प्रायश्चित करने के लिए यूपी के वृंदावन (मथुरा) पहुंचा। जहां दान-पुण्य के कार्यों में उसने 16 लाख रुपए खर्च कर डाले। पुलिस के मुताबिक, आरोपी ने मंदिर में शानदार भंडारा कराने के साथ ही वहां बैठे भिखारियों को 2-2 हजार रुपए भी बांटे। मुंबई पुलिस ने मथुरा पुलिस के साथ ज्वाइंट ऑपरेशन कर वॉन्टेड आरोपी को धर-दबोचा।

- आरोपी रमेश गुजरात का रहने वाला है। पिछले दो साल से वह मुंबई की एक कुरियर कंपनी में काम कर रहा था। रिपोर्ट के मुताबिक, 7 अप्रैल को वह कंपनी से 80 लाख रु लेकर भागा था। लगभग 20 दिन पहले मथुरा पहुंचकर वृंदावन में उसने एक शानदार भंडारे का आयोजन किया। जिसमें 8 लाख रुपए का खर्च आया। लगभग इतने ही रुपए उसने मंदिर में दान कर दिए।
- इसके अलावा उसने कृष्ण भक्तों के लिए तीन लाख रुपए के स्टीमर की भी व्यवस्था की थी। इसी दौरान इलाके में रमेश की चर्चा जोरों पर होने लगी। तभी वह लोकल पुलिस के रडार पर आ गया। पुलिस ने भी पड़ताल शुरू कर दी कि आखिर कौन शख्स है, जो दान-धर्म में इतने पैसे लुटा रहा है।

इस एक गलती से पकड़ा गया
- रिपोर्ट के मुताबिक, पैसे चोरी करने के बाद रमेश सीधे कोलकाता पहुंचा था। जहां उसने कुछ दिन बिताए। यहां के रेड लाइट एरिया सोनागाछी भी गया। फिर वहां से बेंगलुरु चला गया। यहां वह एक फाइव स्टार होटल में कुछ दिनों के लिए रुका।
- इसके बाद यहां उसने एक सिम कार्ड खरीदी और घरवालों को फोन किया। यहीं उसने बड़ी गलती कर दी। दरअसल, पुलिस उसके घरवालों के फोन टैप कर रही थी।

आरोपी के पास से सोना भी बरामद
- मुंबई पुलिस को रमेश की लोकेशन का पता चल गया। इसके बाद मथुरा पुलिस के साथ ज्वाइंट टीम बनाई गई और फिर रमेश को गिरफ्तार कर लिया गया।
- पुलिस को उसके पास से 5 एपल आइफोन, 10 लाख रुपए नगद और 120 ग्राम सोना बरामद हुआ है।

Related Stories