--Advertisement--

यहां किसान खुद बदल रहे अपनी तकदीर, इस खेती से कमा रहे 10 गुना लाभ

गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचाते हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 23, 2017, 09:00 AM IST
मुरादाबाद में किसान अब फूलों की खेती कर रहें हैं। मुरादाबाद में किसान अब फूलों की खेती कर रहें हैं।

मुरादाबाद. यहां किसान अब गन्ने की खेती छोड़कर सब्जी और फूलों की खेती में अपना भविष्य देख रहे हैं। गन्ने की खेती को जानवर नुकसान पहुंचा दिया करते थे। इसके अलावा मिलों द्वारा समय पर पेमेंट नहीं मिलने से किसान काफी आहत रहते थे। इस वजह से बड़ी संख्या में किसान अब फूलों की खेती करने लगे हैं। 10 गुना मिल रहा लाभ...


- किसान अजयवीर ने बताया, "गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचाते हैं। इसके अलावा किसान चीनी मिलों को अपना गन्ना देता है, लेकिन उसे समय पर उसकी फसल का पेमेंट नहीं मिलता। वहीं, गन्ने का रेट तय कुछ किया जाता है और हमारे खाते में भुगतान कुछ और किया जाता है।"
- "जबकि फूलों की खेती में ऐसा नहीं है, यहां रोज फसल के बदले पैसा हाथ में आ जाता है। मंडी में फूलों की डिमांड है, इसलिए पैसा भी अच्छा मिल जाता है।"
- वहीं, किसान अवनीश कुमार ने बताया, "परम्परागत खेती में अब किसानों को लागत भी नहीं मिल पाती है। सरकार के ढीले रैवये के कारण पिछले दो साल से किसानों को गन्ने का भुगतान भी नहीं हुआ हैं। इसी वजह से गन्ना, गेंहू और चावल की खेती छोड़ कर फूलों की खेती की तरफ बढ़ रहा है। बाजार में फूलों का पैसा भी अच्छा मिलता है।

क्या कहते हैं अधिकारी
- उद्यान अधिकारी सुनील कुमार ने बताया, "जिला उद्यान विभाग और प्रशासन की तरफ से फूलों की खेती करने वाले किसानों को कई तरह की सहायता दी जा रही है। फूलों की खेती से सामान्य फसलों के मुकाबले 10 गुना ज्यादा लाभ किसानों को हो रहा है। इस वजह से लगभग 35 प्रतिशत किसान गन्ने आदि की परम्परागत खेती छोड़कर फूलों की खेती कर रहे हैं।"

फूलों की खेती से किसानों को 10 गुना ज्यादा लाभ मिल रहा है। फूलों की खेती से किसानों को 10 गुना ज्यादा लाभ मिल रहा है।
गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचा देते हैं। गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचा देते हैं।
मंडी में फूलों की डिमांड है, इसलिए पैसा भी अच्छा मिल जाता है। मंडी में फूलों की डिमांड है, इसलिए पैसा भी अच्छा मिल जाता है।
किसान अजयवीर का कहना है कि परंपरागत खेती में अब किसानों को लागत भी नहीं मिल पाती है। किसान अजयवीर का कहना है कि परंपरागत खेती में अब किसानों को लागत भी नहीं मिल पाती है।
X
मुरादाबाद में किसान अब फूलों की खेती कर रहें हैं।मुरादाबाद में किसान अब फूलों की खेती कर रहें हैं।
फूलों की खेती से किसानों को 10 गुना ज्यादा लाभ मिल रहा है।फूलों की खेती से किसानों को 10 गुना ज्यादा लाभ मिल रहा है।
गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचा देते हैं।गन्ने की खेती को बंदर और दूसरे जानवर नुकसान पहुंचा देते हैं।
मंडी में फूलों की डिमांड है, इसलिए पैसा भी अच्छा मिल जाता है।मंडी में फूलों की डिमांड है, इसलिए पैसा भी अच्छा मिल जाता है।
किसान अजयवीर का कहना है कि परंपरागत खेती में अब किसानों को लागत भी नहीं मिल पाती है।किसान अजयवीर का कहना है कि परंपरागत खेती में अब किसानों को लागत भी नहीं मिल पाती है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..