--Advertisement--

धरने में बैठे किसान, बुजुर्ग महिला की तबियत बिगड़ी

मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं किसान।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 04:31 PM IST
किसान अपनी जमीन के बढ़े हुए प्रतिकर की मांग को लेकर एमडीए के मेन गेट पर धरना दे रहे हैं। किसान अपनी जमीन के बढ़े हुए प्रतिकर की मांग को लेकर एमडीए के मेन गेट पर धरना दे रहे हैं।

मेरठ. बढ़े हुए प्रतिकर भुगतान की मांग को लेकर किसानों ने एमडीए कार्यालय में प्रदर्शन शुरू किया है। किसान कार्यालय के अंदर ही भट्टी चढ़ाकर खाना बना रहे हैं और कई महिलाएं भी धरने पर बैठी हैं। धरने पर बैठी 70 साल की एक वृद्ध महिला तबियत खराब होने के बाद उसे समय से इलाज भी नहीं मिल रहा है। किसानों ने डॉक्टर को धरना स्थल पर बुलवाकर वहीं पर उसका इलाज शुरू कराया।

6 घंटे बाद पहुंची एम्बुलेंस


-धरना दे रहे किसानों का कहना है- "उन्होंने धरने पर बैठी महिला के बीमार होने की सूचना दी लेकिन किसी अधिकारी ने नहीं सुनी। सूचना देने के करीब 6 घंटे बाद एम्बुलेंस पहुंची जिसे किसानों ने वापस भेज दिया।
-धरना दे रही महिलाओं ने भी दो टूक शब्दों में कहा- 'वह यहां से कहीं नहीं जाएंगी। बीमारी पुष्पा को भी उन्होंने अस्पताल भेजने से मना कर दिया।'

-महिलाओं का कहना है कि यदि धरना देते हुए पुष्पा देवी की मौत हुई तो उसकी समाधि भी एमडीए कार्यालय में ही बनाई जाएगी।
-किसानों के इन तेवरों को देखकर अधिकारियों में हड़कंप मचा है। अभी तक किसी अधिकारी द्वारा वार्ता के लिए न आने से किसानों में रोष है।

मुख्य द्वार पर डाले हुए हैं डेरा

-किसान अपनी जमीन के बढ़े हुए प्रतिकर की मांग को लेकर एमडीए के मेन गेट पर धरना दे रहे हैं।
-किसानों ने परिसर के अंदर टैंट लगाकर वहां भट्टी चढ़ा दी है। यहीं पर किसान अपना खाना बना रहे हैं। किसानों ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगें पूरी नहीं हुई तो अपने जानवर भी यहीं लाकर बांध देंगे।
-किसानों का आरोप ​है कि एमडीए बार-बार वादा खिलाफी कर रहे हैं। कई बार उनकी मांगों को लेकर समझौता वार्ता हो चुकी है लेकिन यह केवल वार्ता तक ही सिमित कर रह जाते हैं।
-किसानों ने साफ कह दिया है कि अब उन्हें अधिकारियों की बातों पर भरोसा नहीं रहा है, वह अपनी जमीन के बढ़े प्रतिकर का चेक लेकर ही धरने से उठेंगे।
-महामंत्री हरविंदर सिंह का कहना है मांगें पूरी नहीं होने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। इस बार किसान आरपार की लड़ाई लड़ेंगे।