--Advertisement--

इंस्पेक्टर से मांगी छुट्टी तो लगा दिया ये आरोप, वायरल हो रहा ये VIDEO

गाजियाबाद के एक सिपाही ने अपने इंस्पेक्टर के ख‍िलाफ VIDEO वायरल कर दिया है।

Danik Bhaskar | Dec 07, 2017, 09:31 AM IST
गाजियाबाद में एक सिपाही ने अपना VIDEO वायरल किया है। गाजियाबाद में एक सिपाही ने अपना VIDEO वायरल किया है।

गाजियाबाद (यूपी). यहां इंदिरापुरम थाना क्षेत्र के एक सिपाही ने अपने इंस्पेक्टर आैर तमाम वरिष्ट अधिकारी पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है। वीडियो वायरल होने के बाद अब एसएसपी समेत अन्य अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मामले की जांच के आदेश दिए गए है। वहीं, ट्विटर पर यूपी पुलिस ने आईजी मेरठ जोन को टैग करते हुए गाजियाबाद पुलिस से मामले का संज्ञान लेकर स्पष्टीकरण मांगा है।

70 साल में भी जी रहे गुलामी की जिंदगी...

- वैशाली चौकी पर तैनात सिपाही विजय चौधरी ने वायरल वीडियो में कहा, ''पिछले 70 सालों की आजादी के बावजूद भी आज हम गुलामों की जिंदगी जी रहे हैं। पिछले ढाई महीनों में मैंने अपनी बीवी-बच्चे नहीं देखा।''
- ''परिवार में मां-बाप सभी बीमार हैं। एक दिसंबर को मेरी शादी की सालगिरह थी, लेकिन मतगणना में ड्यूटी होने से वहां नहीं जा पाया। मेरी लैपर्ड पर नाइट शिफ्ट चल रही है।''
- ''ड्यूटी खत्म करने के बाद मैं कल दिन में 3 घंटे इंतजार करने के बाद कोतवाल महोदय से मिला। मैं छुट्टी की मांग लेकर प्रस्तुत हुआ, तो उन्होंने कहा, ''5 दिन की नहीं, 3 दिन की छुट्टी दूंगा।''

इंस्पेक्टर ने लगाए आरोप
- ''इंस्पेक्टर के छुट्टी न देने पर एसएचओ ने भी उल्टा आरोप लगा दिया कि ढाई महीने से घर नहीं गए हो तो तुमने तो लूट मचा रखी है, उगाही करते हो, रिश्वत लेते हो। अगर रिश्वत नहीं लेते तो घर जाते।''
- ''हकीकत तो ये है कि ये छुट्टी ही नहीं देते। थाना प्रभारी एसएसआई को भी छुट्टी नहीं लेने देते, उन्हें भी हिदायत देते हैं कि छुट्टी सिर्फ मैं दूंगा।''

छुट्टी लिख इंस्पेक्टर ने नहीं किए साइन
- वीडियो में प्रार्थना पत्र दिखाते हुए सिपाही ने एसएचओ के हस्ताक्षर नहीं होने की बात कही। सिपाही ने कहा ''4 घंटे तक इंतजार करने के बाद कोतवाल ने हस्ताक्षर नहीं करके सीओ के पास जाने के लिए कह दिया।''
- इस मामले में सिपाही के आरोप पर इंदिरापुरम एसएचओ सुशील कुमार दुबे ने कहा, ''सिपाही ने ऑफिस में अभद्रता की और थाने से हटवाने की धमकी दी। इसकी जांच रिपोर्ट तुरंत एसएसपी को लिखित में भेज दी गई है।''

ढ़ाई महीने बाद भी छुट्टी न मिलने से था नाराज। ढ़ाई महीने बाद भी छुट्टी न मिलने से था नाराज।