Hindi News »Uttar Pradesh »Meerut» Special Story On Chaudhary Charan Singh Birth Anniversary

पढ़ाई के लिए इस PM ने छोड़ा था अपना घर, इस दुकान का खाते थे मिठाई

23 दिसंबर को पूर्व पीएम स्व. चौधरी चरण सिंह की जयंती को किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 23, 2017, 07:00 AM IST

  • पढ़ाई के लिए इस PM ने छोड़ा था अपना घर, इस दुकान का खाते थे मिठाई
    +3और स्लाइड देखें
    23 दिसंबर को पूर्व PM का जन्मदिन मनाया जाता है। (फाइल)

    मेरठ (यूपी). किसानों के मसीहा कहे जाने वाले देश के पूर्व पीएम स्व. चौधरी चरण सिंह की जयंती को किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस शहर से इनका गहरा नाता रहा है, इनकी प्राइमरी शिक्षा जानी खुर्द के सरकारी स्कूल में हुई थी। इस स्कूल में ये क्लास 4 तक पढ़े थे। इसके बाद अपने पढ़ने के ​लिए अपने पैतृक गांव नूरपुर चले गए थे।

    ताऊ के यहां गुजरा था बचपन...


    - चौधरी चरण का पैतृक गांव जिला हापुड़ में पड़ता था। जन्म के बाद उनका बचपन मेरठ जिले के भूपगढ़ी गांव में गुजरा। ब्लॉक जानी के इस गांव भूपगढ़ी में इनके ताऊ गजपतर​ सिंह रहते ​थे। करीब 6 साल की उम्र में ये अपने ताऊ के पास आकर रहने लगे थे।
    - ग्रामीणों ने बताया, ''भूपगढ़ी गांव के पास ही जानी खुर्द गांव के सरकारी स्कूल में वह पढ़ने आते थे। जो उनके गांव से करीब 3 किलोमीटर दूर है। वह पैदल ही गांव से दूसरे बच्चों के साथ पैदल आते थे। वे यहां कक्षा 4 तक ही पढ़ाई की, उसके बाद वह अपने मां-बाप के पास नूरपुर चले गए थे।''
    - ''कुछ साल नूरपुर में रहने के बाद वह फिर वापस पढ़ाई के लिए भूपगढ़ी आ गए थे। बाद में यही रहकर अपनी मिडिल क्लास और ​​फिर ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। ग्रेजुएशन करने के लिए रोज साइकिल से शहर पढ़ने जाते थे।''

    अंग्रेजों के खिलाफ किया था आंदोलन
    - गांव भूपगढ़ी में रहने के दौरान चरण सिंह ने अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन में हिस्सा लिया था। जिसके कारण 1941 में उन्हें जेल भी जाना पड़ा। जिला कारागार में उन्हें बैरक नंबर 9 में रखा गया था। आज इस जिला कारागार का नाम भी चौधरी चरण सिंह के नाम पर ही है।
    - उनके साथ उनके बचपन के दोस्त छोटनलाल उपाध्याय भी जेल गए थे। इन्होंने मेरठ, मवाना, सरधना, गाजियाबाद, बुलंदशहर आदि में गुप्त क्रांतिकारी संगठन तैयार किए थे।''

    मुन्नूलाल का पेड़ा था इनकी पहली पसंद
    - चौधरी साहब को बचपन से ही मिठाई खाने का शौक था। जब वह भूपगढ़ी में रहते थे तो जानी गांव में आकर मुन्नू हलवाई के पेड़ा खाते थे। बताते हैं दिल्ली में जब कोई गांव वाले उनसे मिलने आता था तो वह मुन्नूलाल हलवाई के पेड़े उनके लिए लेकर जाता था।
    - प्रधानमंत्री बनने के बाद 1980 में एक जनसभा को संबोधि‍त करने के लिए ये जानी गांव आए थे। ग्रामीणों की मानें तो उस वक्त भी चौधरी साहब ने मुन्नू की दुकान से पेड़े मंगा कर खाए थे।
    - इस गांव में इनके जन्मदिन पर हर साल हवन किया जाता है। स्कूल में भी बच्चों को चौधरी चरण सिंह के बारे में बताया जाता है और उनके आदर्शों को अपनाने के लिए कहा जाता है।
    - स्थानीय निवासी दिनेश उपाध्याय का कहना है, ''किसानों के लिए चौधरी चरण सिंह ने जो कार्य किया है, उन्हें सदैव याद किया जाएगा। इतिहास उनके कार्यों को कभी भूला नहीं सकेगा।''

  • पढ़ाई के लिए इस PM ने छोड़ा था अपना घर, इस दुकान का खाते थे मिठाई
    +3और स्लाइड देखें
    चौधरी चरण सिंह ने इस स्कूूूल से क्लास 4 तक की पढ़ाई की थी।
  • पढ़ाई के लिए इस PM ने छोड़ा था अपना घर, इस दुकान का खाते थे मिठाई
    +3और स्लाइड देखें
    पूर्व पीएम के नाम पर मेरठ के जिला कारागार का नाम रखा गया।( फाइल)
  • पढ़ाई के लिए इस PM ने छोड़ा था अपना घर, इस दुकान का खाते थे मिठाई
    +3और स्लाइड देखें
    इनके ही नाम पर मेरठ विश्वविद्यालय का नाम पड़ा। (फाइल)
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Meerut News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Special Story On Chaudhary Charan Singh Birth Anniversary
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Meerut

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×