Hindi News »Uttar Pradesh »Meerut» Daughters Celebrate Father Death

पिता के मरने पर बेट‍ियों ने किया डांस, कुछ इस तरह किया अंतिम संस्कार

नोएडा. यहां शनिवार को 4 बेट‍ियों ने धूमधाम से अपने पिता की अंतिम यात्रा निकाली।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 11, 2017, 07:01 PM IST

    • नोएडा. यहां शनिवार को 4 बेट‍ियों ने धूमधाम से अपने पिता की अंतिम यात्रा निकाली। गाड़ी को फूलों से सजाया गया था, बैंड-बाजे का भी अरेंजमेंट किया गया था। चारों बेट‍ियां पूरी यात्रा में नाचते हुए गईं और पिता का अंतिम संस्कार किया। इस दौरान यात्रा जहां से भी निकली सभी बेट‍ियों का ये रूप देख हैरान रह गए।

      ...तो बेट‍ियों ने इसलिए पिता की अंतिम यात्रा पर मनाया उत्सव
      - उद्योगपति और नोएडा एंटरप्रेन्योर्स एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष हरी भाई लालवानी (65) का 9 नवंबर को निधन हो गया। उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हुआ था, जिसके बाद गंभीर हालत नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में एडमिट कराया गया था। शनिवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया।
      - बड़ी बेटी अनिता ने बताया, ''पापा की अंतिम इच्छा थी कि जिस तरह बच्चे के जन्म के समय उत्सव मनाया जाता है, ठीक उसी तरह उनकी मौत के बाद अंतिम यात्रा को अंतिम उत्सव की तरह मनाएं।''
      - ''पापा का मानना था कि शायद मौत जिंदगी से भी खूबसूरत होगी, जिसे पाने के लिए जिंदगी को गंवाना पड़ता है। खूबसूरत मौत से मिलने का उनका सफर इस दुनिया में अंतिम उत्सव के रूप में मनाया जाए।''
      - ''इसलिए हम चारों बहनों ने फैसला किया कि पापा की अंतिम इच्छा जरूर पूरी होगी। सुबह 10 बजे उत्सव यात्रा सेक्टर 40 स्थ‍ित घर से शुरू होकर सेक्टर 94 तक गई। इस दौरान हम बहनों ने खूब डांस किया। समाज हमें देखकर क्या सोचता है, इससे फर्क नहीं पड़ता। पापा की खुशी के लिए सबकुछ मंजूर।''
      - बता दें, दिल्ली में एक पान की दुकान से करियर की शुरुआत करने वाले हरी भाई लालवानी 1989 में दिल्ली के शालीमार बाग से नोएडा आए थे। प्र‍िंस गुटखा प्राइवेट लिमिटेड कंपनी शुरू की। 90 के दशक में ही ये गुटखा किंग के नाम से मशहूर हो गए। इनकी 4 बेट‍ियां हैं।
      - साल 1994 में उन्हें नोएडा की सबसे पुराने औद्योगिक संगठन नोएडा एंटरप्रेन्योर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष पद के लिए चुना गया था।
      कुछ इस तरह बने थे गुटखा किंग
      - लालवानी ने बताया, पिता हरी भाई लालवानी का जन्म 1952 में दिल्ली के दरियागंज में हुआ था। दादा टिकमचंद लालवानी दरियागंज स्थित मोतीमहल के सामने प्रिंस पान सेंटर नाम से दुकान चलाते थे।
      - पढ़ाई के साथ पिता दुकान पर भी बैठते और पान को लोकप्रिय करने के बारे में सोचते रहते थे। दुकान पर आने वाले कस्टमर्स को वो नया प्रयोग करते हुए सुपारी में चूना कत्था, तंबाकू सुगंध डाल, फिर उसे रगड़कर गुटखा खिलाते थे।
      - लोग इसे खूब पसंद करने लगे। देखते ही देखते लोगों को पापा के हाथ का बना गुटखा पसंद आने लगा। धीरे-धीरे पापा का गुटखा कागज में पैक होकर बिकने लगा।
      - साल 1989 में पापा नोएडा सेक्टर-40 आकर रहने लगे। यहां सेक्टर-06 में गुटखा के लिए फैक्ट्री लगाई और लोग उन्हें गुटखा किंग कहने लगे।
    • 4 बेट‍ियों ने बैंड-बाजे के साथ निकाली पिता की अंतिम यात्रा।
    • पिता के मरने पर बेट‍ियों ने किया डांस, कुछ इस तरह किया अंतिम संस्कार
      +5और स्लाइड देखें
    • पिता के मरने पर बेट‍ियों ने किया डांस, कुछ इस तरह किया अंतिम संस्कार
      +5और स्लाइड देखें
    • पिता के मरने पर बेट‍ियों ने किया डांस, कुछ इस तरह किया अंतिम संस्कार
      +5और स्लाइड देखें
    • पिता के मरने पर बेट‍ियों ने किया डांस, कुछ इस तरह किया अंतिम संस्कार
      +5और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    More From Meerut

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×