--Advertisement--

मेरठ / पाक से सेना की अहम जानकारियां साझा करने के आरोप में जवान से पूछताछ



Army jawan arrested on charges of espionage
X
Army jawan arrested on charges of espionage

  • उत्तराखंड का रहने वाला है जवान, मेरठ के कैंटोनमेंट बोर्ड में बतौर सिग्नल मैन तैनात
  • आरोप है कि वह 10 महीने से पाकिस्तानी हैंडलर को सेना से जुड़ी अहम जानकारियां दे रहा था

Dainik Bhaskar

Oct 18, 2018, 05:25 PM IST

मेरठ. आर्मी इंटेलीजेंस ने जासूसी के आरोप में सेना के एक जवान से पूछताछ की। जवान मेरठ के कैंटोनमेंट बोर्ड में बतौर सिग्नल मैन तैनात था। सूत्रों के मुताबिक, पिछले तीन महीने से जवान की एक्टिविटी पर सेना का खुफिया विभाग नजर रखे हुए था। आरोप है कि जवान सेना की कुछ सूचनाओं को साझा करता हुआ पाया गया।

 

जवान उत्तराखंड का रहने वाला है। उससे पूछताछ की जा रही है। उस पर आरोप है कि वह करीब 10 माह से व्हाट्सअप के माध्यम से पाकिस्तान के किसी नंबर से संपर्क में था और अहम जानकारियां दे रहा था।

 

दो साल से मेरठ कैंट में तैनात है जवान: जासूसी के आरोप में गिरफ्तार जवान करीब दो साल से मेरठ कैंट के सिग्नल रेजीमेंट में तैनात है। कई महीनों से यह खुफिया एजेंसियों के रडार पर था। हाल ही संदेह पुख्ता होने पर 9 अक्तूबर को उसे हिरासत में ले​ लिया गया, लेकिन मामला सेना से जुड़ा होने के चलते जवान की पहचान गोपनीय रखी गई है। 
 

ब्रह्मोस जासूसी प्रकरण से जुड़ा होने का संदेह: आर्मी इंटेलीजेंस मान रही है कि यह जवान भी ब्रह्मोस जासूसी प्रकरण से जुड़ा हो सकता है। जवान ने भी सोशल मीडिया के जरिए संवेदनशील सूचनाएं लीक की हैं। पश्चिमी कमान से संबंधित गोपनीय जानकारी सोशल मीडिया के जरिए किसी को भेजी गई हैं। आरोपों की पुष्टि होने के बाद जवान को कोर्ट मार्शल किया जाएगा। 

 

जांच के सिलसिले में चंड़ीगढ़ जाएगी टीम: आरोपी जवान जिस यूनिट में तैनात था, उसका हेडक्वार्टर चंड़ीगढ़ में है। पूछताछ के बाद आगे की कार्रवाई और जांच-पड़ताल के लिए जवान को चंडीगढ़ ले जाया गया है। 
 

जासूसी के आरोप में नागपुर से इंजीनियर हुआ था गिरफ्तार 

इससे पहले आठ अक्टूबर को यूपी एटीएस और मिलिट्री इंटेलीजेंस ने जासूसी के आरोप में नागपुर स्थित रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन के सीनियर इंजीनियर निशांत अग्रवाल को गिरफ्तार किया था। उस पर आरोप था कि उसने नागपुर में ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट से अहम तकनीकी जानकारियां चोरी कर अमेरिका और पाकिस्तान को बेची है।

 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..