उप्र / होमगार्ड ड्यूटी फर्जीवाड़े से जुड़े अहम दस्तावेज जले, योगी ने मांगी रिपोर्ट



Important documents related to home guard duty fraud burnt
X
Important documents related to home guard duty fraud burnt

  • नोएडा एसएसपी ने कहा- अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है
  • मुख्यमंत्री योगी ने मामले का संज्ञान लेकर अधिकारियों को दिए थे कार्रवाई के निर्देश

Dainik Bhaskar

Nov 19, 2019, 06:35 PM IST

लखनऊ/नोएडा. नोएडा में होमगार्ड की ड्यूटी लगाने में हुए करोड़ों के घोटाले की जद में आए नोएडा जिला कमांडेंट होमगार्ड कार्यालय में सोमवार देर रात संदिग्ध अवस्था में आग लग गई थी। इस मामले में पुलिस ने मंगलवार को अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं सीएम योगी आदित्यनाथ ने आग लगने के कारणों की जांच और इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी है।

 

इस घटना की जांच के लिए नगर पुलिस अधीक्षक (एसपी सिटी) के नेतृत्व में एक टीम बनाई गई है। जिले में होमगार्ड की ड्यूटी लगाने को लेकर करोड़ों का घोटाला सामने आया है। इस मामले में सूरजपुर थाने में मुकदमा दर्ज है और पूरे प्रकरण की जांच गौतमबुद्ध नगर की अपराध शखा कर रही है।

 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) गौतमबुद्ध नगर वैभव कृष्ण ने बताया कि सोमवार देर रात पुलिस को सूचना मिली कि जिला कलेक्ट्रेट स्थित जिला कमांडेंट होमगार्ड के कार्यालय में आग लग गई है। उन्होंने बताया कि सूचना मिलते ही सूरजपुर थाने के प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र दीक्षित व एफएसओ सूरजपुर मौके पर पहुंचे। वहां उन्हें होमगार्ड के वेतन का मास्टरोल वाला एक बड़ा बक्सा जली हुई अवस्था में पड़ा मिला। बक्से के अंदर मौजूद सभी मस्टरोल पूरी तरह से जल गए थे।

 

एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा कि मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा रही है। पूरी घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं। जांच के लिए एसपी सिटी के नेतृत्व में जिला स्तर पर एसआईटी गठित की गई है। प्रथम दृष्टया यह पता चला है कि जले हुए बक्से में वर्ष 2014 के बाद से गौतमबुद्ध नगर के विभिन्न पुलिस थानों, सरकारी कार्यालयों में प्रतिनियुक्ति पर तैनात होमगार्ड के वेतन के मस्टरोल रखे थे।

 

क्राइम ब्रांच कर रही है घोटाले की जांच
उन्होंने बताया कि जनपद गौतमबुद्ध नगर में होमगार्ड की ड्यूटी लगाने में अधिकारियों की मिलीभगत से करोड़ों का घोटाला हुआ है। इस मामले में 13 नवंबर को सूरजपुर थाने में होमगार्ड विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वैभव कृष्ण ने बताया कि इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच की टीम कर रही है। उन्होंने माना कि देर रात को संदिग्ध अवस्था में होमगार्ड कमांडेंट के कार्यालय में लगी आग से जांच प्रभावित होगी।

 

शासन ने जांच के लिए एक चार सदस्यीय टीम बनाई
एसएसपी की रिपोर्ट के आधार पर शासन ने मामले की जांच के लिए एक चार सदस्यीय टीम बनाई। इसमें लखनऊ मुख्यालय में तैनात एसएसओ सुनील कुमार, मिर्जापुर के जिला कमांडेंट शैलेंद्र प्रताप सिंह, बागपत के मंडलीय कमांडेंट नीता भारती, मेरठ के मंडलीय कमांडेड डीडी मौर्य शामिल हैं।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना