पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • India Surgical Strike News Shaheed Amit Pradeep Relatives Said We Want More Terrorists To Die

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शहीद अमित व प्रदीप के परिजन बोले- इतने से संतुष्ट नहीं, खून का बदला खून चाहिए

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलवामा हमले में शहीद हुए थे सीआरपीएफ जवान अमित कुमार व प्रदीप कुमार
  • दोनों शहीद शामली जिले के रहने वाले

शामली. पुलवामा आतंकी हमले के 12 दिन बाद भारतीय वायुसेना ने मंगलवार तड़के लाइन ऑफ कंट्रोल को क्रॉस कर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के कई लॉन्च पैड को तबाह कर दिए हैं। भारतीय वायुसेना के मिराज 2000 फाइटर विमान ने मुजफ्फराबाद, बालाकोट और चकोटी के कई ठिकानों पर बमबारी की। इधर, शहीदों के परिवार इस कार्रवाई भर से संतुष्ट नहीं हैं। उनका कहना है कि इस तरह की गोलाबारी तो अपने देश में खाली जगह पर प्रैक्टिस के लिए भी कर सकते हैं। उन्हें खून का बदला खून चाहिए।

 

शहीद अमित कुमार के भाई सुनील कुमार ने कहा कि देश की सरकार के द्वारा लिए गए फैसले के बाद पाकिस्तान पर वायु सेना ने हमले किए। पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों को खत्म किया है। लेकिन, मरने वालों की सूचना अभी तक जारी नहीं हुई है। जब तक 40 के बदले 4000 आतंकवादियों को नहीं मार गिराया जाएगा, तब तक सुकून नहीं मिलेगा। देश की सरकार से शहीदों का परिवार जवाब मांग रहा है। यह खानापूर्ति करके एक खाली ठिकानों पर ही हमला करके काम नहीं चलेगा। ठोस कदम उठा कर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

 

शहीद प्रदीप कुमार के बेटे सिद्धार्थ का कहना है कि यह सब खानापूर्ति की जा रही है। खाली मकानों पर वायु सेना प्रेक्टिस करने का काम कर रही है। अगर यह प्रैक्टिस करनी थी तो पुलवामा और राजस्थान में बहुत जमीन खाली पड़ी है। वहां पर हमारे देश की सेना ऐसा कर सकती है। हम लोग अभी तक की कार्रवाई से संतुष्ट हैं, लेकिन हम लोगों को खून का बदला खून चाहिए। जब तक कोई आतंकी नही मारा जाता तब तक हमें सकून नहीं मिलेगा। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उत्तम व्यतीत होगा। खुद को समर्थ और ऊर्जावान महसूस करेंगे। अपने पारिवारिक दायित्वों का बखूबी निर्वहन करने में सक्षम रहेंगे। आप कुछ ऐसे कार्य भी करेंगे जिससे आपकी रचनात्मकता सामने आएगी। घर ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser