वायरल वीडियो मामला / लड़की से चैटिंग करते दिखे नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण; योगी ने मामले काे संज्ञान में लिया, आईजी से रिपोर्ट मांगी

एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा- अपराधों के खुलासे से तिल-मिलाए लोग ही व्यक्तिगत छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा- अपराधों के खुलासे से तिल-मिलाए लोग ही व्यक्तिगत छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।
X
एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा- अपराधों के खुलासे से तिल-मिलाए लोग ही व्यक्तिगत छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा- अपराधों के खुलासे से तिल-मिलाए लोग ही व्यक्तिगत छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।

  • वैभव कृष्ण ने वीडियो को बताया साजिश का हिस्सा, पांच आईपीएस अधिकारियों पर लगाए आरोप
  • एसएसपी ने कहा- जांच से बौखलाकर मुझे बदनाम करने की साजिश की जा रही है
  • सीएम ने मेरठ जोन के आईजी आलोक कुमार से पूरे मामले में रिपोर्ट तलब की है

दैनिक भास्कर

Jan 02, 2020, 04:49 PM IST

नोएडा/ लखनऊ. उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर के एसएसपी के कथित वीडियो बुधवार देर शाम वायरल हो गए। दावा किया जा रहा है कि वीडियो में एसएसपी लेटे हुए लड़की से चैटिंग कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इस वीडियो को चैट करने वाली लड़की ने खुद ही रिकाॅर्ड किया है और फिर उसे वायरल कर दिया। हालांकि एसएसपी वैभव कृष्ण ने उत्तर प्रदेश के पांच आईपीएस अधिकारियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि उनको बदनाम करने के लिए जानबूझकर साजिश रची जा रही है। इसको लेकर उन्होंने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है। इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरे मामले में मेरठ जोन के आईजी से रिपोर्ट मांगी है।

मुख्यमंत्री ने मामले में स्वत: संज्ञान लिया है। उन्होंने आईजी रेंज मेरठ आलोक सिंह से जांच रिपोर्ट मांगी है। मामले के जांच की जिम्मेदारी मेरठ रेंज के एडीजी आलोक सिंह की निगरानी में एसपी हापुड़ संजीव सुमन को सौंपी गई। इस संबंध में डीजीपी ने कहा कि मामला संज्ञान में आने पर जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस मामले में एसएसपी की ओर से नोएडा के सेक्टर 20 थाने में एफआइआर दर्ज कराई गई है।

एसएसपी ने डीजीपी को लिखा पत्र

इधर, नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण ने डीजीपी को पत्र लिखकर 5 आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ आरोप लगाए हैं। डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह को सौंपी एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए वैभव कृष्ण ने कहा है कि उन्होंने पत्रकारिता के नाम पर संगठित गिरोह चलाने वाले कथित पत्रकार उदित गोयल, सुशील पंडित और चंदन राय को जेल भेजा था, इसी मामले में लखनऊ के नितीश शुक्ला के खिलाफ भी कार्रवाई हुई थी। 

वाॅट्सअप चैटिंग में सामने आई थी ट्रांसफर-पोस्टिंग की बात
वैभव कृष्ण के मुताबिक, जेल में बंद पत्रकार चंदन की आइपीएस अजयपाल शर्मा, आइपीएस सुधीर सिंह, आइपीएस हिमांशु कुमार, आइपीएस राजीवनारायण मिश्रा और आइपीएस गणेश साहा के साथ ट्रांसफर-पोस्टिग को लेकर की गई बातचीत और वाॅट्सएप चैटिंग जांच में सामने आई थी। उसी समय से मेरे खिलाफ लगातार साजिश हो रही है। अब निजी स्तर पर बदनाम करने के लिए फेक वीडियो वायरल कराए जा रहे हैं।

कथित वीडियो को लेकर एसएसपी ने दी सफाई 

एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा कि उनके नाम से तीन फर्जी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किए जा रहे हैं, जिनमें पीछे से किसी लड़की की आवाज सुनाई दे रही है। यह वीडियो साजिश के तहत उन्हें बदनाम करने के लिए वायरल किए गए हैं। एसएसपी ने बताया कि भ्रष्टाचार से संबंधित कुछ अति संवेदनशील प्रकरणों में प्रशासनिक रिपोर्ट लगभग 1 माह पहले ही कार्यालय में प्रेषित की गई थी। विवेचना के दौरान इस वीडियो का स्रोत कहां से भेजा गया और फॉरवर्ड किया गया तक पहुंचकर कार्रवाई की जाएगी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना