--Advertisement--

नहीं रहा लखनऊ जू का वाइट टाइगर आर्यन, 20 किलो माला से दी गई अंतिम विदाई

17 साल के आर्यन टाइगर का जन्म 2001 में हुआ था। करीब एक महीने से इलाज चल रहा था।

Danik Bhaskar | Nov 24, 2017, 04:02 PM IST
17 साल के सफ़ेद बाघ आर्यन की मौत। 17 साल के सफ़ेद बाघ आर्यन की मौत।

लखनऊ. लखनऊ जू के सबसे बुजुर्ग ह्वाइट टाइगर आर्यन (17) की शुक्रवार सुबह मौत हो गई। बता दें, इसका करीब एक महीने से इलाज चल रहा था। 17 साल से जू आने वाले पर्यटकों का मनोरंजन और कौतुहल का केंद्र रहे आर्यन की मौत से जू का पूरा स्टाफ दुखी नजर आया। 20 किलो की माला से टाइगर को अंतिम विदाई दी गई। 2001 में हुआ था जन्म...

- जू के निदेशक, रेंजर और कीपर ने फूलों की माला चढ़ाकर आर्यन को अंतिम विदाई दी।
- जू के निदेशक राजेंद्र कुमार सिंह ने बताया, "टाइगर का पोस्टमार्टम बाद में किया जाएगा। इसने विशाखा बाघिन के साथ जोड़ी बनाई थी। दोनों के दो बच्चे जय और विजय हैं।"
- टाइगर की देखरेख करने वाले मुबारक कहते हैं- वे कई वर्षों से इसकी देखभाल कर रहे थे। उसका जाना एक दोस्त के चले जाने जैसा है। अंतिम संस्कार में उसे 20 किलो की माला पहनाई गई।
- बता दें, आर्यन का जन्म 2001 में लखनऊ जू में हुआ था। इसकी मां का नाम रीमा और पिता का नाम रूपेश है। दोनों की मौत हो चुकी है। आर्यन की पत्नी विशाखा से पिछले साल दो शावकों (जय-विजय) का जन्म हुआ था।

पिछले एक महीने से बीमार था। पिछले एक महीने से बीमार था।
आर्यन टाइगर का जन्म 2001 में लखनऊ जू में हुआ था। (फाइल) आर्यन टाइगर का जन्म 2001 में लखनऊ जू में हुआ था। (फाइल)
आर्यन की मौत के बाद उसके दोनों बच्चे जय और विजय दुखी नजर आए। आर्यन की मौत के बाद उसके दोनों बच्चे जय और विजय दुखी नजर आए।
अस्पताल प्रांगण में जू के निदेशक, रेंजर और कीपर ने फूलों की माला चढ़ाकर आर्यन को अंतिम विदाई दी। अस्पताल प्रांगण में जू के निदेशक, रेंजर और कीपर ने फूलों की माला चढ़ाकर आर्यन को अंतिम विदाई दी।