--Advertisement--

ये है 3 हजार साल पुराना दुनिया का सूबसे प्राचीन शहर, यहां मनाते हैं 'मौत का उत्सव'

इस नगर को भगवान शिव ने बसाया था। ये भगवान शिव और पार्वती का निवास स्थान माना जाता है।

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 12:24 AM IST
बनारस के गंगा घाट का फोटो। बनारस के गंगा घाट का फोटो।

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 मार्च को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों को बनारस की सैर कराएंगे। वे अस्सी घाट से मणिकर्णिका तक पांच किलोमीटर बुलेटप्रूफ बोट में बैठकर जाएंगे। बता दें कि तीन हजार साल से अधिक पुराना बनारस दुनिया के सबसे प्राचीन शहरों में हैं। यह शहर अपने क्लासिकल संगीत के लिए भी जाना जाता है। बनारस की पहचान यहां के घाटों से है। इस शहर में 88 घाट हैं। इस लिहाज से दुनिया में सबसे अधिक घाटों के किनारे बसा शहर है। इस नगर को भगवान शिव ने बसाया था।

इसलिए भी फेमस है बनारस

- बनारस की सिल्क से बनी बनारसी साड़ी और हैंडीक्रॉफ्ट दुनियाभर में मशहूर हैं। यहां की फेमस सिल्क की साड़ी को बनाने में छह माह लगते हैं।
- बनारस के संगीत घरानों ने देश को नई पहचान दी है। सितार वादक रविशंकर, शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्ला खां का शहर है बनारस। यहां पर स्थित काशी के मणिकर्णिका घाट का महाश्मशान एक मात्र ऐसा स्थल है,

- बनारस में लगभग हर चौराहे पर एक मंदिर है। इसे प्रकाश का शहर भी कहा जाता है।
- वाराणसी हिंदुओं के अलावा बौद्धों के लिए भी पवित्र है क्योंकि भगवान बुद्ध ने अपने उपदेश दिए थे।
- साथ ही साथ यहां पर जैनों के 23वें तीर्थंकर का जन्म होने के कारण जैनों के लिए भी ये शहर बहुत फेमस है।
- ये शहर पढ़ाई के लिए भी बहु फेमस है। यहां कि बनारस हिंदु यूनिवर्सिटी में दूर दूर से लोग पढ़ने आते हैं।

गंगा आरती को भव्य बनाने की तैयारी


- मोदी के आने की तारीख तय होने के साथ ही प्रशासन सतर्क हो गया है।
- इस बार गंगा आरती को और भव्य बनाने की तैयारियां की जा रही हैं।
- प्रशासन गंगा आरती दशाश्वमेध और अस्सी घाट में से किसी एक कराने का प्लान बना रहा है।

- इस बार घाटों पर बनारस की संस्कृति को दिखाया जाएगा। इसके लिए दशाश्वमेध से लेकर अस्सी घाट तक प्रदर्शनी लगाई जाएगी।
- इनमें वेदों का उच्चारण करते बटुक और तबला, सितार, सारंगी बजाते कलाकार होंगे। साथ ही साधु-संत प्रार्थना करते दिखाई देंगे।

फ्रांस का लुवयरे म्यूजियम। इसे देखने सालाना 1 करोड़ लोग आते हैं। फ्रांस का लुवयरे म्यूजियम। इसे देखने सालाना 1 करोड़ लोग आते हैं।

पेरिस: 23 सौ साल पुराना दुनिया का सबसे आधुनिक शहर


- पेरिस में दुनिया का चौथा सबसे बड़ा ट्रांसपोर्ट सिस्टम, यहां रोजाना 10 फिल्में शूट होती है
- पेरिस को 2300 साल पहले बसाया गया थाा। पेरिस अपने करीब 500 मूवीस्क्रीन, 1800 स्मारक और एफिल टॉवर के लिए जाना जाता है।
- फ्रांस को दुनिया की फैशन राजधानी कहते हैं। पेरिस की गलियों में रोज 10 डॉक्यूमेंट्री या शॉर्ट फिल्म शूट होती है। यह दुनिया में सबसे अधिक। 
- पेरिस में दुनिया का चौथा सबसे बड़ा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम है। 302 मेट्रो स्टेशन हंै। पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम शुरू करने वाला पहला देश है।
- फ्रांस के फैशन शो को देखने दुनियाभर से लोग आते हैं। लग्जरी गुड्स मार्केट 143 लाख करोड़ रुपए का है। यह दुनिया में सबसे अधिक है।  

बनारस की एक पुरानी फोटो। बनारस की एक पुरानी फोटो।
बनारस ऐसा दिखता था पहले। बनारस ऐसा दिखता था पहले।