--Advertisement--

तोते का हुआ अंतिम संस्कार, कार्ड छपवाकर तेरहवीं में रिश्तेदारों को कराया भोज

यूपी के अमरोहा से ये चौंकाने वाला मामला सामने आया है।

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 12:32 PM IST
टीचर पंकज कुमार अपने पालतू मिट्ठू के साथ। तेरहवीं का कार्ड (बाएं)। टीचर पंकज कुमार अपने पालतू मिट्ठू के साथ। तेरहवीं का कार्ड (बाएं)।

अमरोहा. क्या आपने कभी किसी तोते के अंतिम संस्कार की बात सुनी है। यूपी के अमरोहा से कुछ ऐसा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक पालतू तोते की मौत पर न केवल हिंदू रीति रिवाज से उसका अंतिम संस्कार कराया गया, बल्कि रिश्तेदारों को तेरहवीं के भोज का न्योता तक दिया गया। इसके लिए बाकायदा कार्ड छपवाए गए। तोते के मालिक का कहना है कि वह उसे बेटे जैसा प्यार करता था। क्या है पूरा मामला ?

- जानकारी के मुताबिक, पंकज कुमार मित्तल प्राइमरी टीचर हैं।
- 5 मार्च को अचानक उनके पालतू तोते की मौत हो गई थी।
- तोते के लिए अपना प्यार जताते हुए पंकज ने रविवार को हवन का आयोजन किया।
- इस दौरान पंडित को बुलाकर यज्ञ किया गया।
- पंकज ने तेहरवीं पर भोज के लिए रिश्‍तेदारों और पड़ोसियों को भी न्योता भेजा।

ऐसे बना था परिवार का सदस्य
- पंकज ने बताया कि 5 साल पहले उन्होंने इस तोते को गोद लिया था।
- 2013 में जब वे छत पर टहल रहे थे, तब चील के पंजे से छूटकर तोता छत पर आ गिरा था।
- 'वो उड़ नहीं पा रहा था, क्योंकि उसके पैर जख्मी थे।'
- इसके बाद उन्होंने उसकी मरहम पट्टी की।
- और फिर तोता उनके बीच परिवार के सदस्य की तरह रहने लगा।

पालतू की मौत पर हवन का आयोजन। पालतू की मौत पर हवन का आयोजन।