--Advertisement--

मेरे पापा कर्नल हैं..अभी फोन मिलाती हूं, हेल्मेट चेकिंग में लेडीज के ऐसे EXCUSE

लखनऊ में बुधवार को हजरतगंज समेत 4 चौराहों पर आरटीओ और ट्रैफिक पुलिस ने हेल्मेट चेकिंग अभियान चलाया।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 08:14 PM IST
बिना हेल्मेट एक्टिवा से लड़की को रोका गया तो वो भड़क गई। उसने महिला पुलिस अफसर से कहा- मेरे पापा कर्नल हैं..अभी फोन मिलाती हूं। बिना हेल्मेट एक्टिवा से लड़की को रोका गया तो वो भड़क गई। उसने महिला पुलिस अफसर से कहा- मेरे पापा कर्नल हैं..अभी फोन मिलाती हूं।

लखनऊ. राजधानी में बुधवार को हजरतगंज समेत 4 चौराहों पर आरटीओ और ट्रैफिक पुलिस ने हेल्मेट चेकिंग अभियान चलाया। इसके तहत कहीं लड़कियां तो कहीं महिलाएं बिना हेल्मेट ड्राइव करती पकड़ी गई। इस दौरान सभी अलग-अलग तरह के बहाने बनाते नजर आए। कोई हाथ जोड़कर माफी मांगता हुआ दिखाई दिया। बता दें, 15 नवंबर को शासन ने बढ़ते सड़क हादसों को देखते हुए पूरे प्रदेश में हेल्मेट एवं सीट बेल्ट दिवस मनाने का फैसला किया था। मेरे पापा कर्नल हैं, अभी फोन मिलाती हूं...

- एक लड़की बिना हेल्मेट के ड्राइव करती पकड़ी गई। पूछने पर बताया- ''सर कॉलेज से आ रही हूं। आगे से गलती नहीं होगी।''

- इसी बीच एक्टिवा से जा रही दो लड़कियों को रोका गया तो उन्होंने स्पीड तेज कर दी, लेकिन महिला पुलिस ने जबरन हाथ दिखाकर रोक लिया। उसने बताया- ''मैम मेरे पास हेल्मेट हैं, डिक्की में रखा हुआ है।''
- स्कूटी से बिना हेल्मेट एक्टिवा से लौट रही लड़की को रोका गया तो वो भड़क गई। उसने महिला पुलिस अफसर से कहा- ''मेरे पापा कर्नल हैं..अभी फोन मिलाती हूं।''
- इसपर महिला अफसर बोली- ''आपका एक्सीडेंट होगा तब वो हेल्मेट ही आपको बचाएगा न की आपके कर्नल पापा।'' इसके बाद उसका चालान काटा।
- वहीं, बेटे को स्कूल से लेकर लौट रही एक महिला को पुलिस ने रोका। पूछने पर बोली- जल्दी-जल्दी में घर पर ही हेल्मेट भूल गई।''

पिता सुपरवाइजर हैं-एक बार बात कर लो

- बिना हेल्मेट जा रहे मयंक को पुलिस ने रोका तो उसने कहा- ''पापा सुपरवाइजर हैं, एक बार बात कर लो। उसके बाद चालान काट लेना।''

- इसी बीच पीछे से गुजर रहे ट्रैफिक पुलिस ने ई-रिक्शा को रोक लिया। उसके पास कागज न मिलने पर चालान कटता देख उसमें बैठा सपा वर्कर उतरा।

- उसने हाथ जोड़कर पुलिस कर्मियों से उसका चालान न करने की बात कही। इसपर जुर्माना भराकर पुलिस ने जाने दिया।

वीकली चलेगा ये अभियान

- एएसपी ट्रैफिक रवि शंकर निम का कहना हैं, ''हर बुधवार पूरे प्रदेश में हेल्मेट और सीट बेल्ट दिवस मनाया जाएगा। अगली बार कोई पकड़ा गया तो भरी जुर्माना होगा।''

- एआरटीओ (प्रशासन) प्रवीन सिंह ने बताया, ''106 बिना हेल्मेट चालान, 76 की बिना सीट बेल्ट ड्राइवर्स के चालान किए गए हैं। यह अभियान राजधानी के 4 चौराहों हजरतगंज, 1090, अवध हॉस्पिटल और आशियाना पर चलाया जा रहा हैं।''

बेटे को स्कूल से लेकर लौट रही एक महिला को पुलिस ने रोका। पूछने पर बोली- जल्दी-जल्दी में घर पर ही हेल्मेट भूल गई। बेटे को स्कूल से लेकर लौट रही एक महिला को पुलिस ने रोका। पूछने पर बोली- जल्दी-जल्दी में घर पर ही हेल्मेट भूल गई।
बिना हेल्मेट के ड्राइव करती एक लड़की पकड़ी गई। पूछने पर बताया- सर कॉलेज से आ रही हूं। आगे से गलती नहीं होगी। बिना हेल्मेट के ड्राइव करती एक लड़की पकड़ी गई। पूछने पर बताया- सर कॉलेज से आ रही हूं। आगे से गलती नहीं होगी।
आरटीओ टैक्स अफसर अनीता वर्मा ने एक लड़की को रोका। समझाते हुए कहा- बेटा हेल्मेट हैं तो लगाओ जरूर। (चश्मा लगाए महिला अफसर) आरटीओ टैक्स अफसर अनीता वर्मा ने एक लड़की को रोका। समझाते हुए कहा- बेटा हेल्मेट हैं तो लगाओ जरूर। (चश्मा लगाए महिला अफसर)
मीडिया कर्मियों के पहुंचने पर एक लड़की बोली- प्लीज मेरे फोटो मत लो। मीडिया कर्मियों के पहुंचने पर एक लड़की बोली- प्लीज मेरे फोटो मत लो।
बिना हेल्मेट के ड्राइव करती एक लड़की पकड़ी गई। पूछने पर बताया- सर कॉलेज से आ रही हूं। आगे से गलती नहीं होगी। बिना हेल्मेट के ड्राइव करती एक लड़की पकड़ी गई। पूछने पर बताया- सर कॉलेज से आ रही हूं। आगे से गलती नहीं होगी।
लड़की ने कहा- ''सर, फर्स्ट टाइम है कि बिना हेल्मेट के थी और पकड़ ली गई। आगे से ऐसा नहीं होगा।'' लड़की ने कहा- ''सर, फर्स्ट टाइम है कि बिना हेल्मेट के थी और पकड़ ली गई। आगे से ऐसा नहीं होगा।''
बिना पेपर ई-रिक्शा ड्राइवर को रोका गया। उसमें बैठा सपा वर्कर उतरा और हाथ जोड़कर चालान न करने की मिन्नत करने लगा। बिना पेपर ई-रिक्शा ड्राइवर को रोका गया। उसमें बैठा सपा वर्कर उतरा और हाथ जोड़कर चालान न करने की मिन्नत करने लगा।
एआरटीओ (प्रशासन) प्रवीन सिंह ने बताया, 106 बिना हेल्मेट चालान, 76 की बिना सीट बेल्ट ड्राइवर्स के चालान किए गए हैं। एआरटीओ (प्रशासन) प्रवीन सिंह ने बताया, 106 बिना हेल्मेट चालान, 76 की बिना सीट बेल्ट ड्राइवर्स के चालान किए गए हैं।
लखनऊ के 4 चौराहों हजरतगंज, 1090, अवध हॉस्पिटल और आशियाना पर चलाया जा रहा हैं। लखनऊ के 4 चौराहों हजरतगंज, 1090, अवध हॉस्पिटल और आशियाना पर चलाया जा रहा हैं।