--Advertisement--

वाइफ को हम बिस्तर होने के लिए किया मजबूर, विरोध करने पर छत से फेंका

सीतापुर से लखनऊ लाई गई पूजा को रहने के लिए मिली छत। साथ ही इलाज हुआ शुरू।

Danik Bhaskar | Nov 24, 2017, 05:47 PM IST

लखनऊ. यहां बचपन में मां की बीमारी से मौत हो गई। पापा ने 14 साल की उम्र में एक उम्रदराज से शादी कर दी गई। ससुराल पहुंची तो सास, ननद के इशारे पर पति उसे मारने पीटने लगा। हद तो तब हो गई उसे दूसरे के साथ हम बिस्तर होने के लिए दवाब बनाए जाना लगा। मना करने पर छत से नीचे फेंक दिया। जिससे उसका कमर से नीचे का हिस्सा काम करना ही बंद कर दिया। यह दांस्ता शाहजहांपुर की पूजा (20) की है जो अब सरकारी अनाथालय में रहने पर मजबूर है।

ननद भांग पिलाकर करती थी टार्चर...

- सीतापुर के आशा ज्योति केंद्र में रह रही पूजा को मंगलवार को लखनऊ के लोकबंधु अस्पताल स्थित आशा ज्योति केंद्र लाया गया। जहां से उसे महि‍ला शरणलाय लाया गया।
- पूजा ने कहा, ''मेरे पापा मेरी शादी 14 साल की उम्र में एक अधेड़ से शादी कर दी। पति ने जबरन शारीरिक संबंध बनाया। ननद ने शादी के 2 महीने के बाद भांग पिलाकर दूसरे के साथ सोने भेज दिया। जिसके लिए 5 हजार रूपए भी लिया।''
- ''विरोध किया तो, पति ने मुझे छत से नीचे फेंक दिया। जिससे कमर के नीचे का हिस्सा काम करना बंद कर दिया। ढाई महीने मेडिकल कॉलेज में भी भर्ती रही। अब ना ही उठ पाती हूं न चल पाती हूं।''
- ''जगह-जगह भटकी, लेकिन कहीं भी सहारा नहीं मिला। फिर ट्रेन में भीख मांगकर गुजारा करने लगी।''
- ''ट्रेन में भीख मांगते देख किसी ने आशा ज्योति केंद्र (181) पर सूचना दे दी। वहां के लोग आए और मुझे साथ ले गए। बाद में मामला सीतापुर डीएम तक पहुंचा तो उन्होंने देखभाल के निर्देश दिए।
- ''मैंने सीतापुर कोतवाली मुकदमा दर्ज कराया था, अब मामला कोर्ट में है।''
- ''मुझे कुकिंग और गाना गाना बहुत अच्छा लगता है। मैं चाहती चाहती हूं कि मुझे कुकिंग करने का मौका मिले जिससे मैं इसमें अपना भविष्य बना सकूं।

बनाएंगे आत्मनिर्भर
- महिला शरणलाय की सुप्रीटेंडेंट आरती सिंह ने कहा, ''पूजा की कॉउंसलिंग की गई, उसके पैर के इलाज के लिए डॉक्टर को दिखाया गया है।''
- ''डॉक्टर का कहना है कि वो ठीक हो सकती है, बस थोड़ा समय लगेगा। उसे कुकिंग करना पसंद है। इलाज के बाद उसे आत्मनिर्भर बनाने में मदद की जाएगी।''