--Advertisement--

आग में फंसी 80 साल की महिला-चीखता रहा बेटा, दारोगा जी ने ऐसे बचाई जान

सुल्तानपुर में एक बिजनेस मैन के घर में आग लग गई। 80 साल की बुजुर्ग महिला अंदर ही फंस गई।

Dainik Bhaskar

Nov 28, 2017, 04:32 PM IST
पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर दारोगा पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गया। दीवार को फांदते हुए घर के अंदर पहुंचे। पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर दारोगा पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गया। दीवार को फांदते हुए घर के अंदर पहुंचे।

सुल्तानपुर. यहां सोमवार को एक बिजनेस मैन के घर में आग लग गई। घर में चारो तरफ धुंआ देख सभी लोग भाग निकले, लेकिन 80 साल की महिला अंदर ही फंस गई। मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड उन्हें बाहर निकालने की कोशिश करती रही। तभी बुजुर्ग के बेटे की चीखें सुन दारोगा जी पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गए। दीवार को फांदते हुए घर में घुसे और महिला को गोद में लेकर बाहर निकाले। 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू...


- मामला कोतवाली नगर के चौक स्थित चित्रा गली का है। यहां टाफी-बिस्कुट के थोक विक्रेता महादेव कसौंधन का तीन खंड का मकान है।
- ग्राउंड फ्लोर वाले हिस्से में आगे की तरफ दुकान और पीछे गोदाम है, जबकि फर्स्ट व सेकंड फ्लोर पर वे परिवारीजन के साथ रहते हैं।
- सोमवार सुबह करीब 10:30 बजे गोदाम में आग लग गई। धुआं उठने लगा। घर के सदस्य कुछ समझ पाते तब तक पूरा मकान धुएं से भर गया।
- चीख-पुकार सुन व धुआं उठता देख मौके पर पहुंचे मोहल्लेवासी आग बुझाने मे जुट गए। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड के साथ पुलिस पहुंची।
- घर के सभी सदस्यों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया, लेकिन महादेव की मां सूर्यकला देवी (80 साल) फर्स्ट फ्लोर में पीछे वाले कमरे में फंस गईं।


बेटे को चीखता देख दारोगा जी ने दिखाई दिलेरी
- बेटा चिल्ला-चिल्ला कर घर के अंदर बूढ़ी मां के फंसे होने की आवाज लगाने लगा। इसी बीच फायर ब्रिगेड ने कमरे की खिड़की तोड़कर धुआं बाहर निकाला।
- मौके पर पहुंचे चौकी इंचार्ज (दारोगा) शाहगंज राम प्रकाश यादव दिलेरी दिखाते हुए पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गए।
- महिला के बेटे के मुताबिक, ''दारोगा जी दीवार को फांदते हुए घर में घुसे और मां को गोद में उठाकर बाहर निकाले। दारोगा और सिपाहियों ने जिस जिंदा दिली से मां को बचाया। उसके लिए व्यापार मंडल उनके इस काम के लिए उन सबको सम्मानित भी जरूर करेगा।''

महिला को गोद में उठाकर जैसे ही दारोगा बाहर निकाले। बाहर खड़े बेटे और लोगों ने सहारा दिया। महिला को गोद में उठाकर जैसे ही दारोगा बाहर निकाले। बाहर खड़े बेटे और लोगों ने सहारा दिया।
बेटे के मुताबिक- दारोगा और सिपाहियों ने जिस जिंदा दिली से मां को बचाया। उसके लिए व्यापार मंडल उनके इस काम के लिए उन सबको सम्मानित भी जरूर करेगा। बेटे के मुताबिक- दारोगा और सिपाहियों ने जिस जिंदा दिली से मां को बचाया। उसके लिए व्यापार मंडल उनके इस काम के लिए उन सबको सम्मानित भी जरूर करेगा।
करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।
X
पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर दारोगा पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गया। दीवार को फांदते हुए घर के अंदर पहुंचे।पीठ पर 2 सिलेंडर लादकर दारोगा पड़ोस के घर की छत पर चढ़ गया। दीवार को फांदते हुए घर के अंदर पहुंचे।
महिला को गोद में उठाकर जैसे ही दारोगा बाहर निकाले। बाहर खड़े बेटे और लोगों ने सहारा दिया।महिला को गोद में उठाकर जैसे ही दारोगा बाहर निकाले। बाहर खड़े बेटे और लोगों ने सहारा दिया।
बेटे के मुताबिक- दारोगा और सिपाहियों ने जिस जिंदा दिली से मां को बचाया। उसके लिए व्यापार मंडल उनके इस काम के लिए उन सबको सम्मानित भी जरूर करेगा।बेटे के मुताबिक- दारोगा और सिपाहियों ने जिस जिंदा दिली से मां को बचाया। उसके लिए व्यापार मंडल उनके इस काम के लिए उन सबको सम्मानित भी जरूर करेगा।
करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।करीब 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..