--Advertisement--

अयोध्या मुद्दा सुलझाने पहुंचे श्रीश्री के स्वागत बरसाए गए फूल, बजते रहे ढोल-नगाड़े : देखें PHOTOS

श्रीश्री रविशंकर ने अयोध्या मुद्दे पर दोनों पक्षों से मुलाकात की।

Danik Bhaskar | Nov 15, 2017, 05:29 PM IST
बंद कमरे में हुई दोनों पक्षों से मुलाकात । बंद कमरे में हुई दोनों पक्षों से मुलाकात ।

लखनऊ. अध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर बुधवार को लखनऊ पहुंचे। यहां उन्होंने अयोध्या विवाद को कोर्ट से बाहर सुलझाने के लिए हिन्दू और मुस्लिम पक्षों से मुलाकात की। श्रीश्री करीब 12.45 पर डालीगंज में पंडित अमरनाथ मिश्रा के घर पहुंचे। वहां उनका स्वागत बहुत ही भव्य तरह से किया गया लेकिन पूरे कार्यक्रम के दौरान अव्यवस्था का ही आलम रहा। तकरीबन 1 घंटा चली बैठक

राम मंदिर विवाद सुलझाने अयोध्या पहुंचे श्रीश्री रविशंकर

-श्रीश्री रविशंकर के यहां पहुंचने पर उनका ढोल नगाड़ों से स्वागत हुआ। उनकी गाड़ी के आगे करीब 200 मीटर तक ढोल नगाड़ा बजता रहा। इस दौरान उन्हें देखने वालों की भीड़ लगी रही। कोई घर की छत से तो कोई घर की खिड़की से उन्हें देखना चाह रहा था।
-यही नहीं रविशंकर के स्वागत में उनकी गाड़ी पर इतना फूल लाद दिया गया कि ड्राइवर को कहना पड़ गया कि भाई अब बस करो दिखना बंद हो गया है।

स्वागत के लिए आये बच्चे भीड़ में फंसे
-वहीं, गुरुकुल जानकीपुरम से आये भगवा कपड़ों में बच्चों को रविशंकर के स्वागत में लगाया गया था, लेकिन जैसे ही रविशंकर आये वह भीड़ में फंस गए। काफी देर बाद वह निकल सके।
-श्रीश्री बैठक ख़त्म कर निकलने लगे तो भीड़-भाड़ के चलते स्वागत में लगाया गया गेट गिर गया था। हालांकि तब तक श्रीश्री रविशंरकर वहां से निकल चुके थे।

बंद कमरे में हुई दोनों पक्षों से मुलाकात
-रविशंकर ने एक बंद कमरे में दोनों पक्षों के लोगों से मुलाकात की। कमरे में निर्मोही अखाड़े के राजा रामचन्द्रचार्य पहले से मौजूद थे जबकि रामजन्मभूमि निर्माण न्यास के अध्यक्ष जन्मजय शरण मिलने पहुंचे। दिगंबर अखाड़ा के सुरेश दास, अखिल भारतीय हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी और विनय कटियार पहुंचे थे।
-मुस्लिम पक्ष में ऑल इंडिया कुर्रा कौंसिल के अध्यक्ष मौलाना करी युसूफ अजीज पहुंचे थे।

लगते रहे जय श्रीराम के नारे
-श्रीश्री रविशंकर जहां बंद कमरे में मध्यस्थता कर बातचीत के रास्ते अयोध्या विवाद सुलझाने का प्रयास कर रहे थे। वहीं, बाहर जय श्रीराम के नारे लग रहे थे।
-ऐसे में वहां पहुंचे कुछ मुस्लिम बंधुओं को यह बात नागवार गुजरी। वह आपस में बात करते रहे कि ऐसी पहल का फायदा क्या है जहां एक ही पक्ष का वर्चस्व है।
-समझौता वार्ता प्रमुख बताने वाले अमरनाथ मिश्रा जिनके घर पर मध्यस्थता की बात हो रही थी वह खुद विवादित स्थान पर मंदिर बनाने के लिए अड़े रहे।
-उन्होंने कहा कि यह सारी कवायद मुस्लिमों को मनाने के लिए है। उन्होंने कहा 5 दिसंबर से रोज इस केस की सुनवाई कोर्ट में होनी है। ऐसे में यह एक पहल है कि कोर्ट से बाहर ही मसला सुलझ जाए।
-उन्होंने कुरआन और हदीस तक की बात बताई कि उसमे लिखा है जहां बुत की पूजा हो वहां मस्जिद न बनाये। उनके बयान को लेकर भी लोगों में चर्चा रही कि जब समझौता वार्ता प्रभारी ऐसी बात कर रहे हैं तो फिर बात आगे कैसे बढ़ेगी।

समझौता वार्ता प्रमुख के बेटे का मनाया जन्मदिन
-समझौता वार्ता प्रमुख अमरनाथ मिश्रा के बेटे का जन्मदिन था। ऐसे में पूरी फैमिली ने श्रीश्री के साथ केक काटकर बेटे का जन्मदिन मनाया।


सीएम योगी से हुई मुलाकात
-श्रीश्री रविशंकर ने बुधवार सुबह सीएम योगी से मुलाकात करने के लिए सीएम आवास पहुंचे। यहां उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ से करीब 30 मिनट तक मुलाकात की। रविशंकर ने कहा, ''ये एक औपचारिक मुलाकात थी। हमारे बीच देश में शांति कायम करने, किसानों और गरीबों के कल्याण, स्वच्छता जैसे कई मुद्दों पर बात हुई।