Hindi News »Uttar Pradesh »Allahabad» Allahabad Highcourt News

हाईकोर्ट ने जेलों में अप्राकृतिक कैदियों की मौत पर प्रदेश सरकार से मांगी कार्य योजना

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से कार्य योजना मांगी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Nov 16, 2017, 08:48 PM IST

हाईकोर्ट ने जेलों में अप्राकृतिक कैदियों की मौत पर प्रदेश सरकार से मांगी कार्य योजना

इलाहाबाद.यूपी के जेलों में बंद कैदियों की अप्राकृतिक मौत के बाद उनके परिजनों को दिए जाने वाले मुआवजे को लेकर हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से उनकी कार्य योजना मांगी है। हाईकोर्ट का कहना है कि सरकार बताए वह कौन सा प्रावधान है, जिसके तहत कैदियों की अप्राकृतिक मौत के बाद आयोग की जांच एवं निर्देशों के बाद मुआवजा दिया जाता है। 21 नवम्बर को होगी अगली सुनवाई...

- यह आदेश चीफ जस्टिस डी बी भोसले एवं जस्टिस एम के गुप्ता की खंडपीठ ने लीगल एण्ड सर्विस क्लीनिक लॉ स्कूल बीएचयू एवं अन्य की तरफ से दायर एक आपराधिक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पारित किया है।
- याचिका में कहा गया है कि सरकार के पास ऐसी कोई ठोस नीति नहीं है। जिससे कैदियों की आप्राकृतिक मौत के बाद तत्काल कार्रवाई प्रारंभ कर उनके परिजनों को मुआवजे का भुगतान किया जा सके।
- वहीं, सरकार की तरफ से कहा गया कि ऐसी आप्राकृतिक मौतों के बाद राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा जांचों प्रान्त कर मुआवजे का आंकलन किया जाता है। इसके बाद परिजनों को मुआवजा दिए जाने की कार्रवाई की जाती है।
- कोर्ट का कहना था कि सरकार क्यों नहीं ऐसी योजना बनाती है, जिससे किसी भी जेल में बंद कैदी की अप्राकृतिक मौत के तत्काल बाद उसके मुआवजे आदि की कार्यवाही एक समय सीमा के अंदर तय करके इसका निपटारा कर दिया जाए।
- इस मामले की अगली सुनवाई अब 21 नवम्बर को होगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Allahabad News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: highkort ne jail mein band kaidiyon ki apraakritik maut par pradesh srkar se maangi karyyojnaa
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Allahabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×