--Advertisement--

उत्तरप्रदेश: 312 रु. के मामले में महिला ने 41 साल कोर्ट के चक्कर काटे, 11 जज नहीं पकड़ पाए गलती

क्लर्क ने दस्तावेजों में कोर्ट फीस जमा करने की बात दर्ज नहीं की थी

Danik Bhaskar | Sep 09, 2018, 11:52 AM IST

मिर्जापुर. उत्तरप्रदेश के मिर्जापुर में महज 312 रुपए के मामले में महिला को 41 साल तक कोर्ट के चक्कर काटने पड़े। शुक्रवार को कोर्ट ने इस मामले की गड़बड़ी पकड़ी। इसके बाद मुकदमे का निपटारा हुआ और बुजुर्ग महिला ने राहत की सांस ली। इस केस की फाइल 11 जजों के सामने से गुजरी, लेकिन किसी ने क्लर्क की गलती पर ध्यान नहीं दिया।

1975 में मिर्जापुर की गंगा देवी के मकान की कुर्की का आदेश जारी हुआ था। उन्होंने इसके खिलाफ सिविल जज की अदालत में केस दायर कराया। 1977 में कोर्ट ने महिला को कोर्ट फीस के तौर पर 312 रुपए जमा कराने के लिए कहा। रुपए जमा कराने पर कोर्ट ने मामला खत्म कर दिया था। बाद में राज्य सरकार ने फैसले के खिलाफ सेशन कोर्ट में अपील की। यहां कोर्ट ने इसे खारिज कर पत्रावली निचली अदालत को भेज दी। लेकिन क्लर्क की गलती से कोर्ट फीस जमा करने की बात दस्तावेजों में दर्ज नहीं हो पाई।

80 साल हो गई महिला की उम्र : मुकदमे की पैरवी रहीं गंगा की उम्र 80 साल हो गई है। 41 साल में इस मामले की फाइल 11 जजों के सामने से होकर गुजरी, लेकिन कोई भी गलती को नहीं पकड़ पाया। जब मामला सिविल जज लवली जायसवाल की कोर्ट में पहुंचा तो गलती समाने आई।