वाराणसी

--Advertisement--

चलती ट्रेन में कपल ने लिए 7 फेरे, पेसेंजर बने बराती-DJ की जगह बजे मंजीरे

गोरखपुर से लखनऊ के रास्ते में संपन्न हुई अनोखी शादी।

Danik Bhaskar

Mar 03, 2018, 12:13 PM IST

भदोही. आज कल कपल्स के बीच डेस्टिनेशन वेडिंग का ट्रेंड है। इन शादियों पर पैसा भी पानी की तरह खर्च किया जाता है। लेकिन भदोही के पीएचसी में फार्मासिस्ट की जॉब कर रहे सचिन सिंह ने एक अलग मिसाल कायम की है। उनकी शादी इलाहाबाद की रहने वाली ज्योत्सना पटेल से अप्रैल में होनी थी। लेकिन उन्होंने होली के मौके पर ही उन्हें जीवनसंगिनी बना लिया वो भी ट्रेन में। इस अनोखी शादी में आशीर्वाद देने पहुंचे खुद श्रीश्री रविशंकर।

अक्षय तृतिया को होनी थी शादी

- भदोही के सचिन सिंह न्यू पीएचसी में बतौर फार्मासिस्ट काम कर रहे हैं। वहीं ज्योत्सना सिंह पटेल सेंट्रल जीएसटी में टैक्स असिस्टेंट हैं। दोनों की शादी अक्षय तृतिया के दिन 18 अप्रैल को तय थी।
- दोनों श्रीश्री रविशंकर के शिष्य हैं। सचिन ने इच्छा जाहिर की कि वे अपने गुरु की मौजूदगी में ही शादी करेंगे।
- जब सचिन ने यह इच्छा श्रीश्री रविशंकर के सामने रखी तो उन्होंने उससे अपने एक खास मिशन से जुड़ने की अपील की।

ये था खास मकसद

- श्रीश्री रविशंकर इन दिनों ओम अनुग्रह यात्रा कर रहे हैं। इसके तहत वो युवाओं को दहेज मुक्त शादी करने का संकल्प दिलाते हैं।
- सचिन और ज्योत्सना भी उनकी इस खास यात्रा के यात्री बन गए। गुरु के कहने पर ही दोनों ने ट्रेन में शादी रचाई।

ट्रेन की बोगी सजी फूलों से

- इस अनोखी शादी के लिए ट्रेन की बोगी को फूलों से सजाया गया। बराती और घराती की भूमिका यात्रियों ने ही निभाई।
- इस कपल की शादी में श्रीश्री रविशंकर ने पिता की तरह आशीर्वाद दिया। फिर ढोल-मजीरा, सितार की धुन और मंत्रोच्चार के साथ धूम-धाम से सभी ने शादी की खुशियां मनाई गईं।
- यह भारत की ऐसी पहली शादी है जो ट्रेन में हुई है। इस लिहाज से सचिन और ज्योत्सना ने इतिहास रच दिया है।
- शादी के बाद सचिन ने कहा- "हम भाग्यशाली हैं कि हमारा गठबंधन गुरुदेव ने करवाया। एक फॉर्मल शादी तय तारीख 18 अप्रैल को भी होगी लेकिन वह एक फॉर्मेलिटी मात्र होगी।

Click to listen..