--Advertisement--

योगी पर बने थीम सॉन्ग पर सामने आई कंट्रोवर्सी, सिंगर बोला- मैंने किसी को कॉपी नहीं किया

इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है।

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2018, 06:01 PM IST
प्रणब ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्होंने कोई कॉपी नहीं किया है। प्रणब ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्होंने कोई कॉपी नहीं किया है।

वाराणसी. 11 जनवरी से शुरु होने वाले गोरखपुर महोत्सव में बजने वाले थीम सॉन्ग 'नाथ योगी' को लेकर नई कंट्रोवर्सी सामने आई है। सिंगर कैलाश खेर ने इस सॉन्ग को कॉपी बताकर इस मुद्दे को हवा दी है। बता दें कि इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है। प्रणब ने पेश की सफाई...

-प्रणब ने अपनी सफाई में कहा-"कोई धुन कॉपी नहीं की गई है। ये एक ट्रेडिशनल गीत है। राग को कोई कंपोज करता है, न ही किसी का कॉपीराइट होता है। राग की रचनाओं का पुराना इतिहास है। राग किसी की पर्सनल नहीं होता है। एक राग पर हजारों गीत बनते है।"
- वाराणसी के जिस स्टूडियों में ये गाना रिकॉर्ड किया है। उसको रिकॉर्ड करने वाले आर्टिस्ट संजय मिश्रा भी मानते है कि ये गाना कहीं से कोई कॉपी नहीं है। प्रणब ने काफी बेहतरीन गाना गाया है।


फिल्म थ्री इडियट से प्रेरित है प्रणब
- योगी पर बेस्ड थीम सांग को गाने वाले छात्र प्रणव ने बताया- "मेरा बचपन स्वरों व म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स के बीच बीता। समझदार होने तक म्यूजिक रग-रग में बस गया था। मैंने 2014 में हाईस्कूल पास किया। 2016 में इंटर। अभी गाजीपुर के एक कॉलेज में बीए की पढ़ाई कर रहा हूं। पहले सोचता था, कि तैयारी करूंगा, बड़ा अधिकारी बनूंगा।

- गुजरे सालों में मैने दोस्तों के साथ 3 इडियट मूवी देखी। उस वक्त मन मे आया कि आवाज की जो क्वालिटी मेरे पास है, उसी को बढ़ना चाहिए। अब सिर्फ म्यूजिक जीवन है। योग और योगी आदित्यनाथ पर गाना मेरे लिए गर्व की बात है, मुझे यह सांग गाने का मौका मिला।

पंचायत ऑफिसर ने तैयार किया है योगी का थीम सॉन्ग
- योगी पर बनने वाले थीम सांग लिखने वाले विमल बावरा आजमगढ़ जिले में ग्राम पंचायत अधिकारी हैं। सूफी गाने, खुसरो, बुल्लेशाह के गीतों से प्रेरित है। हैं। इंटरनेशनल लेवल पर कई प्रतियोगिता में शिरकत कर चुके हैं।
- वह बताते है कि योग औ योगी पर थीम सांग को राग ‘वृंदावनी सारंग‘ पर लिखा गया है। इसमें योग और अध्यात्म की धरती के साथ साथ गोरखपुर और पूर्वांचल की महिमा बताई गई है।

11 जनवरी से शुरु होगा गोरखपुर महोत्सव

- कमिश्नर गोरखपुर मंडल अनिल कुमार ने बताया कि दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय खेल के मैदान पर 11, 12 और 13 जनवरी तक गोरखपुर महोत्सव चलेगा। इसमें कबड्डी, वालीबाल, बैडमिंटन प्रतियोगिता होगी। माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक स्तर के बच्चे स्वच्छता रैली निकालने के साथ सांस्कृति कार्यक्रम और दूसरी कॉम्पिटिशन में हिस्सा लेंगे।

- हथकरघा, शिल्प मेले में जहां कलाकारों की हुनर की प्रदर्शनी लगेंगी। बॉलीवुड के कलाकारों भी हिस्सा लेंगे। बच्चों के मनोरंजन के लिए बाल फिल्म महोत्सव को भी लगाने का प्रयास किया जाएगा। अपने क्षेत्र में अच्छा काम करने वाले व्यक्तियों, साहित्य कला अध्ययन, पत्रकारिता, लेखन, लोक कला एवं सामाजिक कार्य से जुड़े व्यक्तियों को भी सम्मानित किया जाएगा। गोरखपुर महोत्सव की शुरुआत राज्यपाल रामनाईक करेंगे। थीम सॉन्ग भी योगी लॉन्च करेंगे।

ये है टाइटल सांग की थीम

शम्भू के भष्मांग की अगड़ाईयों में,

हर कड़ो में रम रहे हैं नाथ योगी

आदि गोरख की धरा पर प्राण धुनि में ,

रम रहे हैं , बस रहे हैं नाथ योगी ।

अखिलेश यादव ने भी बनवाया था थीम सॉन्ग
-सपा सरकार के दौरान अखिलेश यादव की पसर्नालिटी को केन्द्रित कर गीत लिखा गया था। हां, मैं अखिलेश हूं। दूसरा गीत था 'काम बोलता है'। और तीसरा गीत था-एक हाथ में सपा का झन्डा दूजे में लहराये तिरंगा।

- ये तीनों गीतों के जरिए तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्य, उनकी पसर्नालिटी का गुणगान किया गया था। ये गीत बालीवुड के मशहूर गीतकार जावेद अली ने गाया था।

मुलायम पर भी बना था गीत

-इससे पहले सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के गुरु उदय प्रताप सिंह ने उन पर केन्द्रित थीम सांग लिखा था, जिसके बोल थे-'मन से हैं मुलायम और इरादे लोहा हैं'।

बता दें कि इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है। बता दें कि इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है।
X
प्रणब ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्होंने कोई कॉपी नहीं किया है।प्रणब ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्होंने कोई कॉपी नहीं किया है।
बता दें कि इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है।बता दें कि इस गाने को गाजीपुर के प्रणब सिंह ने गाया है, जबकि गीत विमल बावरा ने लिखा है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..