--Advertisement--

'उनके मुंह पर तमाचा है ये जजमेंट', ऐसे हैं ट्रि‍पल तलाक विक्टि‍म्स के रिएक्शंस

एक बार में तीन तलाक को आपराधिक मामला (क्रिमिनल ऑफेंस) के दायरे में लाने के लिए सरकार गुरुवार को लोकसभा में बिल पेश करेगी

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 11:53 AM IST

वाराणसी. एक बार में तीन तलाक को क्रिमिनल ऑफेंस के दायरे में लाने के लिए सरकार ने गुरुवार को लोकसभा में बिल पेश कर दिया। जिसे 'द मुस्लिम वुमन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज' नाम दिया गया है। इसके तहत 'तलाक-ए-बिद्दत' को गैरकानूनी बताया गया है। फिर चाहे वह बोलकर दिया गया हो, ईमेल से दिया गया हो या एसएमएस-वॉट्सऐप से दिया गया हो। बता दें, यूपी में कई महिलाएं ट्रि‍पल तलाक का दर्द झेल रही हैं। DainikBhaskar.com आपको 10 ऐसे मामले बता रहा है, जहां दहेज में कार तो कहीं नमकीन का पैकेट ही तलाक की वजह बन गया।


कोरियर से भेजा था पत्नी को तलाक, लगाया था कैरेक्टर लेस होने का आरोप

23 नवंबर 2016 को आलिया का निकाह इलाहाबाद में हुआ था। नासिर खान से उसकी मुलाकात शादी डॉटकॉम के जरिए हुई थी। 7 जनवरी 2017 को कोरियर से 3 तलाक भेजने वाले नासिर ने बताया- पत्नी को तलाक-ए-एहसाम दिया है, जो एक-एक महीने के अंतराल पर दिया जाता है। उसका किसी और से चक्कर चल रहा था, वो कैरेक्टर लेस लड़की थी। आलिया का आरोप था- नासि‍र पहले से शादीशुदा था, लेकि‍न उसने बताया नहीं। जब वो ससुराल पहुंची तो पति के रूम में पड़े महिला के कपड़े देख शॉक्ड रह गई थी। पूछने पर उसे घर से निकाल दिया गया। एक दिन भी ससुराल में न रह पाई थी।

जिसके लिए बदला धर्म-उसी ने मोड़ लिया मुंह, महिला ने रोकर सुनाई थी दास्तां
2 साल के अफेयर के बाद 2006 में सुनीता की शादी सलमान से हुई थी। वो हिंदू थी, इसलिए शादी से पहले सलमान ने उसका धर्म परिवर्तन कराया, जिसके बाद वो शाहीना बन गई। धर्म बदलने पर उसकी फैमिली ने उससे रिश्ता तोड़ दिया। ससुराल वाले भी उसे पसंद नहीं करते थे। वो बताती है- सलमान के घरवालों ने चोरी से उसकी शादी दूसरे जगह करवा दी। हद तो तब हो गई जब पता चला कि सलमान ने मरियम नाम की लड़की से तीसरी शादी कर ली। अक्टूबर 2015 में जब मैंने अन्य शादियों का विरोध किया तो सलमान ने उसे मारना-पीटना शुरू कर दिया गया। बात इतनी बढ़ गई कि उसने सुनीता को कमरे में बंद कर आग लगा दी। उस घटना के बाद पुलिस ने सलमान को जेल में डाल दिया। बाद में उसके पैरेंट्स द्वारा हाथ-पैर जोड़ने पर सुनीता ने उसे जेल से छुड़ाया। बाद में सुलमान उसे उसकी 6 साल की बच्ची के साथ घर से निकल जाने को मजबूर कर दिया।

सोफिया ने बताया - कैसे रात 3 बजे तलाक बोलकर घर से कर दिया था बाहर
चेन्नई की रहने वाली सोफिया अहमद ने बताया- 12 जून 2015 को मेरी शादी सपा विधायक गजाला लारी (बहन) के भाई शारिक अराफात से हुई। शादी के बाद हम दोनों यूपी के कानपुर में रहने लगे। शारिक लेदर का बिजनेस करता है। शादी के 10वें दिन से पति का जुल्म शुरू हो गया। उसे शराब और लड़कियों की लत लग चुकी थी। रोजाना नई-नई लड़कियों से रिलेशन बनाना उसकी आदत बन चुकी थी। जब मैंने इसका विरोध किया, तो उसने मुझपर हाथ उठना शुरू कर दिया। 13 अगस्त 2016 को शारिक नशे की हालत में घर आया। रात के करीब 2 बजे थे। वो इतने नशे में था कि चल भी नहीं पा रहा था। उस रात भी उसने मुझे मारा-पीटा और हर तरह से टॉर्चर किया। आखि‍र में तलाक-तलाक-तलाक बोलकर रात के 3 बजे मुझे एक महीने के बच्चे के साथ घर से बाहर निकाल दिया। उसके बाद उसने कभी भी मेरी खबर नहीं ली।

पति ने व्हाट्सएप पर दे दिया तलाक
गाजियाबाद के विजयनगर सेक्टर-11 निवासी फिरोजा का पति करीम उसे दहेज के लिए परेशान करता था। वो डेली 3 लाख रुपए की डिमांड करता था। दहेज न मिलने पर ससुरालवाले लड़की के साथ 3 महीने से मारपीट कर रहे थे। 14 मई 2017 को पति ने व्हॉट्सएप पर पत्नी को तलाक का मैसेज भेज दिया। साथ ही वह दूसरी शादी करने की बात कर रहा था।

डाक से भेज दिया था तलाक नाजमा की 25 अक्टूबर 2012 को बिहार निवासी गुलशन से हुई थी। निकाह के बाद से ही दहेज में बाइक और फ्रिज के साथ ही 20 हजार रुपए की मांग को लेकर उसे प्रताड़ित किया जाने लगा। ससुरालवालों ने उसे पीटकर घर से निकाल दिया और कहा कि दहेज का सामान और रकम लेकर आना तभी घर में कदम रखना। पीड़िता ने बताया, "26 नवंबर 2015 को डाक से पति ने तीन तलाक लिखकर भेज दिया। मैं थाने गई तो वहां मुझसे पैसा लिया गया, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई। कोर्ट भी गई, लेकिन वहां से भी अभी तक कोई राहत नहीं मिल पाई है।''

रात 2 बजे तलाक बोलकर कर दिया था बाहर
- 2012 में रिशा खान की अशफाक अली से शादी हुई। साल भर बाद बेटा हो गया। उसी के 6 महीने बाद पूरा परिवार सास, जेठानीं, जेठ दहेज की मांग करने लगे। कभी कहते थे कि 2 लाख ले आओ। विरोध किया तो मारने लगे। हर रोज रात को सास कमरे में आकर पति को उकसाती थीं, फिर विरोध करने पर मारती थीं। उसके बाद रात को पति भी मारते थे। 20 जुलाई 2015 को पति ने रात 2 बजे तलाक-तलाक-तलाक बोलकर घर से बाहर कर दिया। उसी रात मैं मौलवी के पास गई तो वो बोले अब कुछ नहीं हो सकता है।

पति बोला- तुम्हें कल रात को ही दे दिया था तलाक
नवंबर 2010 रूबीना मिर्जा की शादी अब्दुल बेग से हुई। वो बताती हैं- जब मैं पहली बार मायके आने लगी तो ससुराल में पति ने कहा अपने पापा से कहो कार दें। वरना मत आना। मैं जब वापस आई तो मुझे रात को मारा-पीटा और कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद मैंने डायल 100 पर कॉल कर दिया। पुलिस ने पति की पॉवर में आकर कोई कार्यवाई नहीं की। अगले दिन पति बोले- भूल जाओ मुझे। मैंने कहा- ऐसा कैसे हो सकता है। तो वो बोले- तुम्हें तलाक कल रात को ही दे चुका हूं। नमाज के बाद मैंने छत पर ही अपने खुदा से बोला था, मैं इसे तलाक दे रहा हूं, उन्हेांने मेरी रजा मंजूर कर ली है। मैं जब मौलवी के पास गई तो बोले तुम्हारे शौहर ने खुदा के सामने फतवा किया है, तुम्हें तीन तलाक दिया है, अब कुछ नहीं हो सकता।

5 लाख नहीं मिले तो SMS पर दिया तलाक
मामला ग्रेटर नोएडा के दादरी कोतवाली क्षेत्र का है। दहेज में 5 लाख रुपए ना मिलने पर आजाद नाम के युवक ने अपनी पत्नी को एसएमएस के जरिए तलाक दे दिया। तलाक का मैसेज लड़की के पिता के फोन पर भेजा गया। दोनों की एक महीने पहले 1 अप्रैल 2017 को शादी हुई थी। पीड़िता सलमा के मुताबिक, शादी के वक्त आजाद ने अपनी सरकारी नौकरी बताई थी। कुछ समय बाद उसे पता चला कि वो किसी प्राइवेट कंपनी में काम करता है। इसके बाद से सलमा के साथ मारपीट होने लगी। लड़के वालों ने सलमा को अपने पिता से पांच लाख रुपए लाने को कहा। सलमा के इनकार करने पर पति उसे दादरी स्टेशन छोड़ गया और 19 अप्रैल को पति ने तलाक का एसएमएस भेजा था, उसके पिता ने उसे 24 अप्रैल को देखा। मैसेज को जब मौलवी को दिखाया तो उसने कहा- यदि लड़के ने लिखा है तो तलाक हो गया।

नमकीन के पैकेट ने कराया तलाक
मामला गाजियाबाद का है, जहां लोनी निवासी सलीम ने अपनी पत्नी उम्मेदा को सिर्फ इसलिए तलाक दे दिया क्योंकि उसने अपने मायके एक नमकीन का पैकेट भेज दिया था। पीड़िता के पिता के मुताबिक उनका दामाद बेटी को दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करता था। वो आए दिन इस बात पर उसके साथ मारपीट करता था। घटना के दिन सलीम मार्केट से दो नमकीन के पैकेट लेकर आया था। उसमें से एक उम्मेदा अपनी मां के घर दे आई थी। इस पर वो आग बबूला हो गया और उसने पत्नी के साथ मारपीट शुरू कर दी। उसका कहना था कि वह उसकी मर्जी के खिलाफ नमकीन का पैकेट अपने मायके में क्यों देने पहुंची। उम्मेदा ने बताया कि बस इसी मामूली बात को लेकर सलीम ने उसे तीन बार तलाक कह कर घर से निकाल दिया।

फोन पर दे दिया था तलाक
यूपी के शाहजहांपुर की रहने वाली जेबा की शादी 2009 में अलीगढ़ निवासी डॉ जियाद्दीन से हुई थी। एक साल तक सबकुछ ठीक चला, लेकिन उसके बाद से उसका पति उसे टार्चर करने लगा। जियाद्दीन उसे छोड़ दिल्ली में नौकरी करने लगा। 2013 में जेबा को फोन पर ही तीन बार तलाक-तलाक-तलाक बोलकर उससे अलग हो गया। तलाक के बाद से पीड़िता इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही है। धार्मिक गुरूओं ने इसे शरिया कानून बताकर अपने हाथ खड़े कर लिए।