--Advertisement--

ये है यूपी की पहली फाइटर प्लेन महिला पायलट, ये था LIFE का टर्निंग प्वाइंट

16 दिसंबर को शिवांगी को हैदराबाद में फर्स्ट फेज की ट्रेनिंग पूरी होने पर फाइटर पायलट ऑफिसर का पद मिला था।

Danik Bhaskar | Jan 11, 2018, 12:10 AM IST
काशी की रहने वाली हैं यूपी की पहली महिला फाइटर पायलट शिवांगी। काशी की रहने वाली हैं यूपी की पहली महिला फाइटर पायलट शिवांगी।

वाराणसी. इंडियन एयरफोर्स में फाइटर प्लेन उड़ाने वाली यूपी की पहली महिला पायलट शिवांगी ट्रेनिंग से कुछ दिनों की छुट्टी पर घर पहुंची। 16 दिसंबर को शिवांगी को हैदराबाद में फर्स्ट फेज की ट्रेनिंग पूरी होने पर फाइटर पायलट ऑफिसर का पद मिला था। स्वामी विवेकानंद की बर्थ एनिवर्सि‍री पर 12 जनवरी को नेशनल यूथ डे मनाया जाता है। इस मौके पर DainikBhaskar.com आपको यूथ के लिए इन्सपिरेशन शि‍वांगी के बारे में बता रहा है। ये था LIFE का टर्निंग प्वाइंट...


- शिवांगी ने बताया, ''मुझे मेरे नाना से इन्सपिरेशन मिली, जब मैं क्लास 9th में थीं तो वो मुझे दिल्ली एयरबेस लेकर गए थे। मैंने आसमान में उड़ते एयरक्राफ्ट को देखा, तभी से ड्रीम था क‍ि दिन पायलट बनूंगी और एयरफोर्स के प्लेन उड़ाउंगी। यही मेरी लाइफ का टर्न‍िंग प्वाइंट था।''

- ''2016 में मैसूर में कामन एप्टीट्यूड टेस्ट क्वालीफाई किया था। डेढ़ साल की ट्रेनिंग के दौरान फिजिकल और मेंटल ट्रेनिंग हुई।''

- शि‍वांगी ने बताया, ''अभी फाइटर प्लेन नहीं मिले है, ट्रेनर एयर क्राफ्ट ही उड़ाने को मिले है।''

मां-बाप ने कहा- बेटी पर है गर्व

- शि‍वांगी की पढ़ाई सेंट जोसेफ स्कूल से हुई। इसके बाद सनबीम वीमेंस कॉलेज से ग्रैजुएशन किया। फि‍र बीएचयू में एनसीसी में एडमिशन लिया।

- पिता कामेश्वर सिंह का ट्रैवल्स का बिजनेस है, उन्होंने कहा, ''बेटियां किसी भी परिवार की कमजोरी नहीं, बल्कि ताकत होती हैं। मैंने अपनी बेटी के हर सपने को पूरा किया। उसके हर कदम पर उसका साथ दिया। आज उसी बेटी के नाम पर लोग मुझे जानने लगे, मुझे इस बात पर गर्व है।''

- मां सीमा सिंह ने बताया, ''बेटी बचपन से ही होनहार है। पायलटों का ड्रेसअप देखकर कहती थी, कितने स्मार्ट दि‍खते है ये लोग, एक दिन ऐसा ही बनूंगी।''

16 दिसंबर को शिवांगी को हैदराबाद में फर्स्ट फेज की ट्रेनिंग पूरी होने पर फाइटर पायलट ऑफिसर का पद मिला था। 16 दिसंबर को शिवांगी को हैदराबाद में फर्स्ट फेज की ट्रेनिंग पूरी होने पर फाइटर पायलट ऑफिसर का पद मिला था।
शि‍वांगी ने बताया, ''अभी फाइटर प्लेन नहीं मिले है, ट्रेनर एयर क्राफ्ट ही उड़ाने को मिले है।'' शि‍वांगी ने बताया, ''अभी फाइटर प्लेन नहीं मिले है, ट्रेनर एयर क्राफ्ट ही उड़ाने को मिले है।''
शि‍वांगी की पढ़ाई सेंट जोसेफ स्कूल से हुई। इसके बाद सनबीम वीमेंस कॉलेज से ग्रैजुएशन किया। फि‍र बीएचयू में एनसीसी में एडमिशन लिया। शि‍वांगी की पढ़ाई सेंट जोसेफ स्कूल से हुई। इसके बाद सनबीम वीमेंस कॉलेज से ग्रैजुएशन किया। फि‍र बीएचयू में एनसीसी में एडमिशन लिया।
मां-बाप ने कहा- बेटी पर गर्व है हमें। मां-बाप ने कहा- बेटी पर गर्व है हमें।