--Advertisement--

Photos: फ्रांस के प्रेसिडेंट को दिया जाएगा ये खास बनारसी तोहफा

फ्रांस के प्रेसिडेंट इमैनुअल मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगित मैक्रों को बनारस में खास पारंपरिक उपहार दिया जाएगा

Danik Bhaskar | Mar 12, 2018, 10:39 AM IST
मैक्रों की वाइफ को गिफ्ट किए गए गुलाबी मीना के झुमके मैक्रों की वाइफ को गिफ्ट किए गए गुलाबी मीना के झुमके

वाराणसी. फ्रांस के प्रेसिडेंट इमैनुअल मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगित मैक्रों सोमवार को बनारस पहुंचे। जहां उन्हें खास पारंपरिक उपहार दिया गया। मैक्रों को फ्रांस का एम्बलम (सिम्बल ऑफ फ्रांस) और ब्रिगित को गुलाबी मीनाकारी के झुमके गिफ्ट किए गए। जरदोजी के मास्टर मुमताज अली ने बनाया है फ्रांस एम्बलम...

- बनारस के लल्लापुरा निवासी जरदोजी के मास्टर मुमताज अली ने फ्रांस का एम्बलम (सिम्बल ऑफ फ्रांस) तैयार किया है।

- वहीं मास्टर शिल्पी कुंज बिहारी ने गुलाबी मीनाकारी आर्ट से झुमके बनाए हैं।

40 साल से कर रहे जरदोजी
- मुमताज ने बताया कि बीते 40 साल से वे आर्मी के बैज व यूरोपीय कंट्रीज से मिले ऑर्डर पर जरदोजी करते आ रहे हैं।
- इसमें बारीक कढ़ाई का काम होता है। जिसमें गोल्ड के बारीक धागों को पिरोया जाता है।
- ये कढ़ाई खासकर मखमल और साटन के कपड़ों पर की जाती है। मुगलकाल से ये आर्ट चला आ रहा है।

क्या है गुलाबी मीनाकारी?
- गुलाबी मीनाकारी के कारीगर कुंज बिहारी ने बताया ये एक नेचुरल आर्ट है।
- इसमें चंदन के तेल में स्वर्ण भष्म मिलाकर कलर तैयार किया जाता है।
- पूरा वर्क चांदी पर होता है।
- इसके लिए 1200 डिग्री तापमान पर अलग अलग सांचों को पकाया जाता है।
- इसमें हर पार्ट को अलग अलग बनाया गया है।
- इसके बाद सभी को एसेंबल किया जाता है।
- 400 साल पहले मुगलकाल में ये कला विकसित हुई थी।
- बता दें कि गुलाबी मीनाकारी को देश की बौद्धिक सम्पदा अधिकार (Intellectual Property Right) का दर्जा 2015 में हासिल हुआ।

फ्रांस का एम्बलम दिखातीं अफसाना और तारानुम फ्रांस का एम्बलम दिखातीं अफसाना और तारानुम
जरदोजी के मास्टर मुमताज अली ने तैयार किया है फ्रांस का एम्बलम जरदोजी के मास्टर मुमताज अली ने तैयार किया है फ्रांस का एम्बलम