--Advertisement--

'वंदेमातरम्' और 'भारत माता की जय' बोलने पर प्रिंसिपल ने की बच्चों की पिटाई, अब सस्पेंड

बच्चों ने बताया कि हाथ जोड़ना तक उनका स्कूल में मना था।

Danik Bhaskar | Dec 30, 2017, 01:27 PM IST
बच्चों ने बताया कि स्कूल में हाथ जोड़ने की मनाही थी। 'वंदेमातरम्' और 'भारत माता की जय' के नारे लगाने पर सजा मिलती थी। बच्चों ने बताया कि स्कूल में हाथ जोड़ने की मनाही थी। 'वंदेमातरम्' और 'भारत माता की जय' के नारे लगाने पर सजा मिलती थी।

मिर्जापुर. वंदेमातरम और भारत माता की जय बोलना प्राइमरी स्कूल के स्टूडेंट को भारी पड़ा। मामला जमालपुर ब्लॉक के जाफरखानी प्राथमिक विद्यालय शेरवा का है । इस मामले के सामने आने के बाद मिर्जापुर के बेसिक शिक्षाधिकारी प्रवीण त्रिपाठी ने प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया है। हाथ जोड़ने तक था मना....

-स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों ने बताया, "प्रिंसिपल हाथ जोड़ने तक को मना करते थे। 'वंदे मातरम' और 'भारत माता की जय' बोलने पर मारते पीटते थे। दो बच्चों के सिर आपस में लड़ा देते थे।"

-ग्रामीण जन्मेजय ने बताया, "स्कूल में बच्चे जब 'वंदे मातरम' और 'भारत माता की जय' के नारे लगाते थे। तब स्कूल के प्रिंसिपल उनके साथ मारपीट करते थे।"

-"जब ये बात बच्चों के अभिभावकों को पता चली, तब उन लोगों ने उसकी शिकायत एबीएसए से की। जांच के लिए पहुंचे शिक्षा विभाग के अफसरों ने मामले को सही पाया। जिसके बाद उसे निलंबित कर दिया गया।"


प्रिंसिपल का पक्ष
-स्कूल से सस्पेंड हो चुके प्रिंसिपल शाहिद फैजल ने आरोपों को बेबुनियाद बताया। उन्होंने कहा, "हमने बच्चों को वंदेमातरम् बोलने के लिए कहा था,लेकिन बच्चों ने वंदेमातरम नहीं गाया।"

अभिभावकों की शिकायत पर मामले की जांच की गई थी। अभिभावकों की शिकायत पर मामले की जांच की गई थी।
मिर्जापुर के बीएसए ने बताया कि जांच में आरोप सही पाए गए। इसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है। मिर्जापुर के बीएसए ने बताया कि जांच में आरोप सही पाए गए। इसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है।