Hindi News »Uttar Pradesh News »Varanasi News» Struggle Story On Lady Wrestler Pooja From Varanasi

कभी लड़के मारते थे ताना, लड़की ने विदेश जाकर लड़ी थी 4 फाइट

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 03, 2017, 06:30 PM IST

DainikBhaskar.com आपको एक बुनकर की रेसलर बेटी की स्ट्रगल स्टोरी बता रहा है।
  • कभी लड़के मारते थे ताना, लड़की ने विदेश जाकर लड़ी थी 4 फाइट
    +3और स्लाइड देखें
    रेसलर पूजा यादव ने बताया- शुरू में गांव में लड़के गालियां देते थे, लेकिन मम्मी-पापा चाहते थे खेलु।(दाएं और इनसेट में लेडी रेसलर पूजा)

    वाराणसी. यहां स्व. अमरनाथ मिश्रा के स्मृति में 3 दिनों तक चलने वाला रेसलिंग कंप्टीशन गुरूवार को खत्म हुई। इसमें 4 बार नेशनल खेल चुकी भट्टी गांव की रहने वाली रेसलर पूजा ने भी हिस्सा लिया। इस दौरान इन्होंने बताया, ''एक वक्त ऐसा था कि लड़के गाली देते थे, लेकिन मम्मी-पापा चाहते थे खेलु। 2016 में चाइना के रेसलिंग कंप्टीशन में इंडिया को रिप्रेजेंट किया। इस दौरान इन्होंने ड्राई फ्रूट, चॉकलेट, वाटर मिलन और पानी पीकर 6 दिनों तक 4 फाइट लड़ी। DainikBhaskar.comआपको इनकी स्ट्रगल स्टोरी बता रहा है। चाइना में खानेमिलता था गंदा नॉनवेज...

    - पूजा यादव ने बताया, ''6 जुलाई 2016 को जूनियर इंडिया टीम से 60 किलो वेट कैटेगरी में खेलकर इंडिया को पांचवा स्थान दिलवाया था। 3 साल पहले लोग ताने देते थे कि लड़को की तरह दिखती हो लाइफ में क्या करोगी। उसी दिन रेसलिंग का मन बना लिया।''

    - ''गरीबी के चलते कभी डाइट में प्रोटीन, फल, दूध तक नसीब नहीं हुआ। 2014-15 में लखनऊ साईं हॉस्टल का ट्रायल दिया और सेलेक्ट हुई।''
    - ''मेरे पास जूते, ट्रैक शूज और पहनने को अच्छे कपड़े तक नहीं थे। इसलिए सीनियर्स के कपड़े पहनना पड़ता था।''
    - ''चाइना में गंदा नॉनवेज खाने को मिलता था, जो इंडियन कभी नहीं खा सकते। इसपर हल्का ड्राई फ्रूट चॉकलेट और वाटर मिलन खाकर 6 दिनों तक 4 फाइट लड़ी। लौटने के बाद मुझे टीवी की बीमारी हो गई।''
    - कोच गोरख ने बताया, ''4 नेशनल खेल चुकी पूजा ने ब्रांच और सिल्वर जीता है। साथ ही स्कूली नेशनल और स्टेट में गोल्ड जीता है।''
    - ''लड़को की तरह रिंग में पटकती है। कोई जेंट्स रेसलर जैसे दांव खेलता है, वैसे एक्टिविटी पूजा करती है।''

    ऐसा है फैमिली बैकग्राउंड
    - इनके मुताबिक, ''पिता मंगला प्रसाद बुनकर का काम कर 300 से 400 कमा पाते हैं। शुरू में गांव में लड़के गालियां देते थे, लेकिन मम्मी-पापा चाहते थे खेलु।''
    - ''अभी बंगलौर जिंदल ग्रुप के हॉस्टल में रहती हूं। हम चार बहन-चार भाई हैं, जिसमें से 6वें नंबर पर हूं। इंटर की पढ़ाई के साथ रेसलिंग भी कर रही हूं।''

  • कभी लड़के मारते थे ताना, लड़की ने विदेश जाकर लड़ी थी 4 फाइट
    +3और स्लाइड देखें
    चाइना में 6 जुलाई 2016 को जूनियर इंडिया टीम से 60 किलो वेट कैटेगरी में खेलकर पूजा ने इंडिया को पांचवा स्थान दिलवाया था।
  • कभी लड़के मारते थे ताना, लड़की ने विदेश जाकर लड़ी थी 4 फाइट
    +3और स्लाइड देखें
    रेसलर पूजा ने बताया- खेल के वक्त मेरे पास जूते, ट्रैक शूज और पहनने को अच्छे कपड़े तक नहीं थे। इसलिए सीनियर्स के कपड़े पहनना पड़ता था।
  • कभी लड़के मारते थे ताना, लड़की ने विदेश जाकर लड़ी थी 4 फाइट
    +3और स्लाइड देखें
    वाराणसी में 3 दिनों तक चले रेसलिंग कंप्टीशन में पूजा ने हिस्सा लिया। गाजपुर की रहने वाली फ्रीम यादव से लड़ी, लेकिन हार गई।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Varanasi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Struggle Story On Lady Wrestler Pooja From Varanasi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Varanasi

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×