--Advertisement--

कान से 75 किलो वजन उठता है ये शख्स, ऐसी है इनकी Diet

सारनाथ के रहने वाले समुंदर राजभर अपने कान से 75 किलो तक का भार उठा लेते हैं।

Danik Bhaskar | Dec 26, 2017, 08:10 PM IST
सारनाथ के रहने वाले समुंदर राजभर अपने कान से 75 किलो तक का भार उठा लेते हैं। सारनाथ के रहने वाले समुंदर राजभर अपने कान से 75 किलो तक का भार उठा लेते हैं।

वाराणसी. सारनाथ के रहने वाले समुंदर राजभर अपने कान से 75 किलो तक का भार उठा लेते हैं। उन्होंने बताया, ''पाकिस्तान के जफर गिल ने 2013 में राइट ईयर से 62 किलो 60 ग्राम का वजन उठाकर रिकॉर्ड अपने नाम किया था। मेरे फ्रेंड अविनाश ने मजाक में कहा- अब तक साइकिल उठाते थे, वजन प्लेट उठाओ। यहीं से जुनून सवार हो गया। शुरू-शुरू में घर पर ही अखाड़े के डम्बल को उठाता था। इसके बाद जिम में यही काम करने लगा।'' आगे पढ़िए पूरा मामला...


- जिम ट्रेनर सौरभ सिंह ने बताया, ''पाकिस्तानी या विदेशी प्लेयर लकड़ी का स्पेशल गद्देदार गुटका कान में लगाकर प्रैक्टिस करते हैं।''
- इतना ही नहीं, मजबूत कपड़े की बेल्ट से लोहे के प्लेट होल्फांस से फंसाए जाते हैं, जबकि समुंदर देशी पहलवान हैं, वो कान के ऊपर रुई लगाकर रस्सी से 75 किलो का वजन उठा ले रहा है।
- समुंदर से कोई भी फीस नहीं लेता है, बल्कि हर सुविधा देने की कोशिश करता है।
- फ्रेंड अविनाश ने बताया, तकनीकी तौर पर रिकॉर्ड में दर्ज कराने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

क्या है समुंदर की डाइट ?

रोटी : 10
चावल : 400 ग्राम
दाल : दो प्लेट
सलाद : एक प्लेट
सब्जी : दो प्लेट
मीट- मुर्गा : मिलने पर एक से डेढ़ किलो
फल : एक दर्जन केला, दो सेब
अंडा : पांच

ऐसा है फैमिली बैक ग्राउंड

- इनके तीन बच्चे बलवंत, विशाल, शिवा हैं। मूल रूप से सथवा सारनाथ का रहने वाला है।
- 5 वीं तक पढ़ा समुंदर मार्बल पत्थर लगाने का काम करता है। इनका वजन 68 किलोग्राम है और 15 साल की उम्र से पहलवानी कर रहे हैं।

समुंदर ने बताया- पाकिस्तान के जफर गिल ने 2013 में राइट ईयर से 62 किलो 60 ग्राम का वजन उठाकर रिकॉर्ड अपने नाम किया था। समुंदर ने बताया- पाकिस्तान के जफर गिल ने 2013 में राइट ईयर से 62 किलो 60 ग्राम का वजन उठाकर रिकॉर्ड अपने नाम किया था।
फ्रेंड अविनाश ने मजाक में कहा- अब तक साइकिल उठाते थे, वजन प्लेट उठाओ। यहीं से जुनून सवार हो गया। फ्रेंड अविनाश ने मजाक में कहा- अब तक साइकिल उठाते थे, वजन प्लेट उठाओ। यहीं से जुनून सवार हो गया।
समुंदर ने बताया- शुरू-शुरू में घर पर ही अखाड़े के डम्बल को उठाता था। समुंदर ने बताया- शुरू-शुरू में घर पर ही अखाड़े के डम्बल को उठाता था।