Hindi News »Uttar Pradesh »Varanasi» Success Story Of Businessman In Varanasi

कभी मंदिर के बाहर फूल बेचता था ये शख्स, आज है लाखों का टर्नओवर

कभी मंदिर के बाहर फूल-माला बेचने वाले काशी के प्रिंस गुप्ता का आज खुद को बिजनेस है। इसका टर्नओवर 25 लाख से ज्यादा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 06, 2018, 09:00 PM IST

    • 11 साल की उम्र में हो गई थी प्र‍िंस के पिता की मौत।

      वाराणसी. काशी के प्रिंस गुप्ता ने गरीबी की वजह से कभी फूल-माला बेचा तो कभी 25-30 रुपए कमीशन पर शर्ट बेची। आज उनकी खुद की बेकरी शॉप है और 25 लाख से ज्यादा का टर्नओवर है। DainikBhaskar.com से बातचीत में उन्होंने अपनी स्ट्रगल स्टोरी शेयर की। इस दौरान वह भावुक भी हो गए। चप्पल के लिए मांगे पैसे, मां ने कहा- टूटी वाली सिलकर पहन लो...

      - प्रि‍ंस ने बताया, ''पिता बीएन गुप्ता सप्लाई इंस्पेक्टर थे। दो भाईयों और दो बहनों पर मैं तीसरे नंबर पर था।
      - 11 साल की उम्र में पिता की मौत हो गई, जिसके बाद मां पर जिम्मेदारियां अचानक से बढ़ गई।
      - बचपन का एक किस्सा याद करते हुए प्रि‍ंस ने बताया, ''16 साल की उम्र में चप्पल टूटने पर मां से पैसे मांगे, तो उन्होंने क‍हा, सिलकर पहन लो।

      - इसके बाद से ही काम करने के लिए घर से निकला, मंदिर के बाहर 20 दिन चिल्ला-चिल्ला कर फूल-माला बेचा।

      - 1998 के आसपास कमीशन पर शर्ट बेंचना शुरू किया। कुछ महीनों बाद 1500 रुपए में साइबर कैफे पर नौकरी करने लगा।
      - 2003 में अचानक ख्याल आया कुछ ऐसा किया जाए ,जो मोहल्ले और इलाके में यूनिक हो
      - पांच रुपए पीस पिज्जा बनाना शुरू किया, फिर केक बनाने लगा। 2005 में घर के नीचे ही बेकरी शॉपी खोली। 2008 मेरी शादी हो गई।

      - बता दें, प्रिंस हर साल बाबा काल भैरव के बर्थ डे पर 551 किलो का केक खुद 72 घंटों में बनाकर अर्पित करते हैं। इसकी कीमत ढाई लाख से ज्यादा होती है।

      - प्रि‍ंस ने बताया कि इस केक को बनाने में उनकी पत्नी अनीता साथ देती हैं।

    • कभी मंदिर के बाहर फूल बेचता था ये शख्स, आज है लाखों का टर्नओवर
      +3और स्लाइड देखें
      गरीबी ऐसी थी चप्पल खरीदने तक के पैसे नहीं थे।
    • कभी मंदिर के बाहर फूल बेचता था ये शख्स, आज है लाखों का टर्नओवर
      +3और स्लाइड देखें
      मेहनत और लगन से खोली खुद की बेकरी शॉप।
    • कभी मंदिर के बाहर फूल बेचता था ये शख्स, आज है लाखों का टर्नओवर
      +3और स्लाइड देखें
      हर साल बाब काल भैरव को ढाई लाख रुपए की कीमत का केक प्रसाद के रूप में चढ़ाते हैं।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Varanasi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Success Story Of Businessman In Varanasi
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Varanasi

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×