वाराणसी

--Advertisement--

ये है NRI फ्रैंक इस्लाम का घर, अमेरिका के टॉप 10 हाउस में है शामिल

DainikBhaskar.com की टीम ने यहां उनके छोटे भाई मुशीरुल इस्लाम और घरवालों से मुलाकात की थी।

Danik Bhaskar

Jan 09, 2018, 10:41 AM IST
पत्नी डेबी ड्राईस मैन के साथ यूपी आमजमगढ़ के रहने वाले फ्रैंक इस्लाम। पत्नी डेबी ड्राईस मैन के साथ यूपी आमजमगढ़ के रहने वाले फ्रैंक इस्लाम।

वाराणसी. 9 जनवरी NRI डे के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है। यूपी के आजमगढ़ में जन्मे मशहूर बिजनेसमैन फ्रैंक इस्लाम को मार्टिन लूथर किंग जूनियर अवॉर्ड से नवाजा गया था। इस भारतीय-अमेरिकी बिजनेसमैन को ये सम्मान उनकी मुहिम 'सपनों को जिंदा रखने' के लिए दिया गया था। बता दें, फ्रैंक इस्लाम का वाराणसी के दोषीपुरा इलाके में पैतृक आवास है। DainikBhaskar.com की टीम ने यहां उनके छोटे भाई मुशीरुल इस्लाम और घरवालों से मुलाकात की थी। उन्होंने बताया कि उनका घर अमेरिका के टॉप टेन घरों में गिना जाता है। 2007 में 18 अरब रुपए पहुंची कमाई...

- करीब 40 साल पहले बिजनेस के सिलसिले में फ्रैंक इस्लाम अमेरिका चले गए थे। उन्होंने साल 1994 में QSS ग्रुप नाम की आईटी कंपनी शुरू की थी। उस दौरान, अपनी कंपनी में वो इकलौते कर्मचारी थे। कुछ ही सालों में उन्होंने कंपनी का विस्तार किया और यहां कर्मचारी की संख्या 2,000 पहुंच गई।
- 2007 में ये कंपनी बेचने से पहले उनकी कमाई 300 मिलियन डॉलर (करीब 18 अरब रुपए) थी। बाद में वो बराक ओबामा के साथ जुड़ गए। पूर्व में वो तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति के सलाहकार थे। इसके साथ ही वो अमेरिका के बिजनेस प्लानिंग ग्रुप का अहम हिस्सा भी हैं। उनकी गिनती ओबामा के करीबियों में की जाती है।

ताजमहल जैसा बनवाया घर
- छोटे भाई मशीरुल इस्‍लाम ने बताया, उनके भाई ने अमेरिका में ताजमहल की तरह अपना घर बनवाया है। ताकि उन्हें अपने देश की खुशबू मिलती रहे। ये घर इतना अलीशान है कि देखने वाले देखते रह जाते हैं। खास बात ये है कि ये घर अमेरिका के सबसे बड़े 10 घरों में से 1 है।
- 'आलू-कचालू' उनका पसंदीदा खाना है। विदेश में ये नहीं मिलता। ऐसे में जब भी उन्हें ये खाने का मन करता है, तो खुद ही बना लेते हैं। उन्होंने अमेरिका में ही शादी की थी। फिलहाल उनकी कोई संतान नहीं है।

आजमगढ़ को बनाएंगे आईटी सिटी
- आजमगढ़ मूल के भारतीय-अमेरिकी उद्योगपति फ्रैंक इस्लाम 2015 में वाराणसी आए थे। उन्होंने बताया था, अपने पैतृक गांव आजमगढ़ को स्मार्ट और आईटी सिटी बनाना चाहते हैं।
- आजमगढ़ को आईटी सिटी बनाने के लिए केंद्र सरकार के मंत्री अरुण जेटली और प्रदेश के तत्कालीन मुखिया अखिलेश यादव से इस बाबत वार्ता की थी। इस मुद्दे पर सहमति बन जाने के बाद जल्द ही विकास की योजनाएं शुरु की जाएगी।

क्यों मनाया जाता है NRI डे?
9 जनवरी 1915 को महात्मा गांधी साउथ अफ्रीका से मुंबई लौटे थे। इसी वजह से भारतीय सरकार ने 2003 में इस डेट को देश के डेवलपमेंट में विदेशों में रह रहे सिटिजन्स के कॉन्ट्रीब्यूशन को सेलिब्रेट करने के लिए मार्क किया।

Click to listen..