Hindi News »Uttar Pradesh News »Varanasi News» Unique Custom Following During Nikah

ये नाव डूबी तो नैय्या पार वरना..निकाह से पहले निभाई जाती है ऐसी परंपरा

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2018, 07:34 PM IST

कुछ लोग परिवार में शादी के ठीक पहले गंगा में नाव बेड़ा पार लगाने आते हैं।
  • ये नाव डूबी तो नैय्या पार वरना..निकाह से पहले निभाई जाती है ऐसी परंपरा
    +3और स्लाइड देखें
    इस परंपरा को निकाह के ठीक पहले रस्म को पूरा किया जाता है।

    वाराणसी.यूपी का वाराणसी शहर गंगा-जमुनी तहजीब और परंपराओं के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। DainikBhaskar.comमुस्लिम समाज से जुड़े ऐसी ही एक परंपरा के बारे में बता रहा है, जिसे कुछ लोग परिवार में शादी के ठीक पहले गंगा में नाव बेड़ा पार लगाने आते हैं। कहा जाता है कि बुरी बलाओं से बचने और लाइफ में सक्सेज पाने के लिए कागज की नाव को नदी में बहाने की परंपरा है।

    - श्रद्धालु फरीदा बताती हैं- ''हमारे परिवार में शादी है। निकाह के ठीक पहले रस्म को पूरा किया जाता है। रात में जगकर गुलगुला बनाया जाता है। फातिहा पढ़ा जाता है।''
    - ''मिट्टी के 4 हांडी खरीदते हैं। इसमें एक में चावल, दूसरे में दलिया, तीसरे में पैसा और चौथे में गुलगुला होता है। लड़की हो या लड़का शादी के बाद बेड़ा पार (लाइफ में सक्सेज) हो जाए। यही कामना होती है। लड़की के परिजनों की ओर से दो और लड़के के परिजनों की तरफ से एक नाव बहाई जाती है।''
    - ''नाव कुछ दूर बिना डूबे निकल जाए तो नैया पार समझी जाती है और अगर नाव डूब जाए तो समझा जाता है कि जिंदगी में प्रॉब्लम्स लगी रहेंगी।''इ

    प्रकृति से जुड़ी परंपरा है ये
    - गयासुद्दीन ने बताया, ''कागज के नाव को बहाया जाता है। अगर कोई बला होती है, तो कट जाती है। ये प्रकृति से जुड़ी परंपरा है।''
    - ''बरात से 3-4 घंटे पहले ये रस्म निभाई जाती है। इंसान का शरीर पंचतत्व से मिलकर बना है। वैवाहिक जोड़े को शांति मिले इसके लिए नदी, झील या तालाब में लोग ऐसा करते हैं। परंपरा का इतिहास का काफी पुराना है।''

  • ये नाव डूबी तो नैय्या पार वरना..निकाह से पहले निभाई जाती है ऐसी परंपरा
    +3और स्लाइड देखें
    रात में जगकर गुलगुला बनाया जाता है। फातिहा पढ़ा जाता है।
  • ये नाव डूबी तो नैय्या पार वरना..निकाह से पहले निभाई जाती है ऐसी परंपरा
    +3और स्लाइड देखें
    मिट्टी के 4 हांडी खरीदते हैं। इसमें एक में चावल, दूसरे में दलिया, तीसरे में पैसा और चौथे में गुलगुला होता है।
  • ये नाव डूबी तो नैय्या पार वरना..निकाह से पहले निभाई जाती है ऐसी परंपरा
    +3और स्लाइड देखें
    लड़की के परिजनों की ओर से दो और लड़के के परिजनों की तरफ से एक नाव बहाई जाती है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Varanasi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Unique Custom Following During Nikah
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Varanasi

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×